पंचायत चुनाव के कारण UP बोर्ड परीक्षा के कार्यक्रम में बदलाव, 24 अप्रैल की जगह अब मई के पहले सप्ताह से संभव

विज्ञापन
savitri
Caption Two
3 / 3
maneesh

देवरिया टाइम्स /डिजिटल डेस्क

यूपी में पंचायत चुनाव के मद्देनजर यूपी बोर्ड की परीक्षाएं टलनी तय है। पहले से घोषित परीक्षा कार्यक्रम 24 अप्रैल से शुरू होने वाली परीक्षाएं अब मई के पहले सप्ताह में हो सकती है।
सूत्रों के मुताबिक त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर होली से पूर्व राज्य का निर्वाचन आयोग 27 मार्च को अधिसूचना जारी करने की तैयारी में है। राज्य का निर्वाचन आयोग 30 अप्रैल तक चुनाव करा कर 3 से 4 मई तक मतगणना करा सकता है।

प्रदेश में जब यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 24 अप्रैल से 12 मई तक कराने का कार्यक्रम घोषित किया गया था। तब राज्य निर्वाचन आयोग का भी चार चरणों में 23 अप्रैल तक मतदान की प्रक्रिया पूरी कर लेने का कार्यक्रम प्रस्तावित था। पंचायतों में गलत आरक्षण पर हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ के दोबारा आरक्षण जारी कराने के निर्देश पर राज्य सरकार अब नए सिरे से आरक्षण प्रक्रिया को पूरा करा रही है। ऐसे में अब 27 मार्च को आरक्षण की प्रक्रिया पूरी होने के साथ आयोग भी चुनाव की अधिसूचना जारी करने की तैयारी में है।आयोग के सूत्रों का कहना है कि होली से ठीक पहले 27 मार्च को अधिसूचना जारी होने से उसे विधिवत चुनाव कराने के लिए 42 दिन चाहिए। चार चरण में जिलेवार सभी पदों का एक साथ चुनाव कराने के लिए 42 दिन का समय होने पर प्रत्येक चरण में प्रचार के लिए एक सप्ताह का समय दिया जा सकेगा। ऐसे में आयोग चाहता है कि बोर्ड की परीक्षाएं मई के पहले सप्ताह तक टल जाएं, ताकि मतगणना आदि भी उससे पहले करा ली जाए।

बोर्ड परीक्षाएं अब 24 अप्रैल से तो नहीं होंगी:

अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज मनोज कुमार सिहं का कहना है कि पंचायत चुनाव के मद्देनजर बोर्ड परीक्षाएं एक सप्ताह आगे बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। उत्तर राज्य निर्वाचन आयोग का मानना है कि 30 अप्रैल तक का भी समय मिल जाने पर हम चार चरणों के मतदान की प्रक्रिया तो पूरी ही कर लेंगे।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here