डीडीयू में यूजी और पीजी में एडमिशन के लिए आवेदन शुरू


देवरिया टाइम्स

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय (डीडीयू) के शैक्षणिक सत्र 2020-21 में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया सोमवार से शुरू हो गई है। नए सत्र में स्नातक के विद्यार्थियों को ‌दीनदयाल उपाध्याय को समर्पित तीन क्रेडिट के कोर्स को तीन वर्षों में राष्ट्रगौरव की भांति उत्तीर्ण करना अनिवार्य होगा।

सोमवार को कुलपति प्रो राजेश सिंह की अध्यक्षता में हुई प्रवेश समिति की बैठक में कई अहम फैसले लिए गए। जिसके तहत अब स्नातक या परास्नातक की नियमित छात्र के रूप में पढ़ाई के लिए तीन साल के गैप के पश्चात भी नियमित विद्यार्थियों के रूप में अध्ययन जारी रख सकेंगे। अब तीन वर्ष के अंदर ही योग्यता प्रदायी परीक्षा को पास करने की बाध्यता को खत्म कर दिया गया है। पुराने नियम के मुताबिक इन विद्यार्थियों को प्राइवेट विद्यार्थी के रूप में पढ़ाई पूरी करने का मौका दिया जाता था। नई शिक्षा नीति में भी इसे दूर किए जाने की बात कही गई है। 

जिसके बाद विवि प्रशासन ने नियम में बदलाव को मंजूरी प्रदान की है। एक अन्य अहम फैसले के तहत बीटेक और बीएससी कृषि में प्रवेश प्रक्रिया पूरी करने के बाद खाली बची 20 फीसदी सीटों पर क्रमशः बीएससी गणित और बीएससी बॉयो के लिए आवेदन करने वाले विद्यार्थियों को प्रवेश का मौका दिया जाएगा। बैठक में सभी संकायों के संकायाध्यक्ष, डीएसडब्लू प्रो अजय सिंह, समन्वयक स्नातक प्रवेश परीक्षा प्रो विनय कुमार सिंह समन्वयक परास्नातक प्रवेश प्रो उदय सिंह और सचिव के रूप में कुलसचिव मौजूद थे। एनएसएस, एनसीसी या रोवर्स रेंजर्स होगा अनिवार्यबैठक में स्नातक के विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए एनएसएस, एनसीसी और रोवर्स रेंजर्स में किसी एक कोर्स की पढ़ाई करना अनिवार्य होगा। 

इसके साथ ही साथ विद्यार्थियों का खेल और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में सहभागिता के आधार पर भी मूल्यांकन होगा।अंतरराष्ट्रीय छात्र और ख्यातिलब्ध खिलाड़ियों को प्रवेश परीक्षा से छूटविवि की प्रवेश परीक्षा से अंतरराष्ट्रीय छात्रों के साथ साथ ख्यातिलब्ध अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय खिलाड़ियों को छूट प्रदान की जाएगी। विवि प्रशासन ने पूर्व में ही इन विद्यार्थियों को फेलोशिप देने का भी एलान किया है।

367 विद्या‌र्थियों ने कराया पंजीकरण
स्नातक में बीटेक, बीएससी कृषि, बीए, बीएससी, बीकॉम, बीबीए, बीसीए, बीएससी एमएलटी, बीएससी फिजियोथेरपी, बीएससी गृहविज्ञान बीए एलएलबी, एलएलबी तीन वर्ष, बीजे कोर्स में प्रवेश ले सकेंगे। परास्नातक में एमए, एमएससी, एमकॉम, एमसीए, एमएड, एलएलएम, एमएससी कृषि, बीपीएड, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन नेशनल एंड सिक्योरिटी मैनेजमेंट के साथ सेल्फ फाइनेंस मोड में संचालित माइक्रोबॉयोलॉजी, बॉयोटेक्नोलॉजी, गृविज्ञान में प्रवेश ले सकेंगे। पहले दिन 367 विद्यार्थियों ने ऑनलाइन आवेदन के माध्यम से पंजीकरण कराया है। इसमें 60 से अधिक विद्यार्थियों ने फीस जमाकर प्रक्रिया को पूरा किया है।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर