देवरिया (सू0वि0) 30 जून। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने निदेशालय जनजाति विकास उ0प्र0 द्वारा निर्गत पत्र के हवाले से बताया है कि जनजातीय उपयोजना अन्तर्गत विशेष केन्द्रीय सहायता से जनजाति बाहुल्य जनपदों / ग्रामों में अनुसूचित जनजाति के युवक/ युवतियों को कौशल विकास व रोजगार के अवसर प्रदान किये जाने के उद्देश्य से कम्प्यूटर ट्रेनिंग (माइकोसाफट आफिस व कम्प्यूटर टाइपिंग), सिलाई-कढ़ाई, गाडियों की मरम्मत (मोटरबाइक ट्रैक्टर कार एवं थ्री व्हीलर). पत्थर कार्य (जेम्स ज्वेलरी व सजावट के सामान) एवं हैण्डीकाफट, सुरक्षा सेवायें के प्रशिक्षण कार्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है।
जिलाधिकारी ने बताया है कि जनजातीय उपयोजना अन्तर्गत विशेष केन्द्रीय सहायता से जनजाति बाहुल्य जनपदों/ग्रामों में अनुसूचित जनजाति के युवक /युवतियों को कौशल विकास व रोजगार के अवसर प्रदान किये जाने के उद्देश्य से विभिन्न प्रकार के कौशल विकास कार्यक्रम (उ०प्र० कौशल विकास मिशन / राष्ट्रीय कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत संचालित कार्यक्रमों के नियमों के अनुसार), लघु/कुटीर उद्योगों की स्थापना, कृषि कार्यों हेतु प्रशिक्षण / उपकरणों की सहायता पशुपालन /मत्स्य पालन कार्यक्रम संचालित किये जाने की व्यवस्था है, जिसके लिये जनजाति बाहुल्य जनपदों /ग्रामों में सर्वे /निरीक्षण कराते हुये अनुसूचित जनजाति के युवक /युवतियों का चयन किया जाना है। उक्त के अतिरिक्त सर्वे / निरीक्षण में अनुसूचित जनजाति के युवक /युवती किसी अन्य ट्रेड में प्रशिक्षण प्राप्त करने के इच्छुक हों तो उन ट्रेड को भी सम्मिलित करते हुये सूची निदेशालय को उपलब्ध करायी जा सकती है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में अनुसूचित जनजाति के युवक /युवतियों को कौशल विकास व रोजगार के अवसर प्रदान किये जाने के उद्देश्य से जनजाति बाहुल्य जनपदों /ग्रामों में सर्वे / निरीक्षण कराते हुये अनुसूचित जनजाति के युवक/ का चयन सुनिश्चित करते हुये ट्रेडवार प्रशिक्षार्थियों की सूची तैयार कर निदेशालय को उपलब्ध कराने का काट करें। लघु / कुटीर उद्योगों की स्थापना, कृषि कार्यों हेतु प्रशिक्षण / उपकरणों की सहायता, पशुपालन / मत्स्य पालन कार्यक्रमों हेतु चिन्हित किये गये कार्यों के आगणन /अनुमानित लागत भी उपलब्ध कराया जाना आपेक्षित है।
प्रचारित प्रसारित द्वारा सूचना विभाग देवरिया।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर