पोषाहार से बने व्यंजन का प्रदर्शन कर सिखाया सुपोषण का गुर

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स-संतोष विश्वकर्मा

पोषण माह कार्यक्रम के तहत शुक्रवार को विभिन्न आंगनबाङी केन्द्रों पर रेसिपी प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। विभिन्न आंगनबाङी कार्यकर्ताओं द्वारा नमकीन व मीठे पोषाहार से बने व्यंजनों का प्रदर्शन किया। साथ ही उपस्थित लाभार्थियों को पोषाहार से व्यंजन बनाने की जानकारी दी गई।

सदर ब्लाक के ग्राम पंचायत कतरारी के आंगनबाड़ी केंद्र दो में आंगनबाङी कार्यकर्ताओं ने पोषाहार से बने ब्याजनों की झांकी सजाई। आंगनबाङी कार्यकर्ता रानी के नेतृत्व में सहायिकाओं ने मीठे पोषाहार से लड्डू, बर्फी, नमकीन पोषाहार से पोहा, काजू बर्फी तथा हलुवा बनाकर लायी थीं। सभी आंगनबाङी कार्यकर्ताओं ने तैयार किये गये व्य॔जनों को बनाने के लिए केन्द्र पर उपस्थित लाभार्थियों व किशोरियों को टिप्स दिया। ऊपरी आहार पुस्तिका का प्रयोग करते हुये गर्भवती महिला एवं छोटे बच्चो के पोषण पर चर्चा की गई। स्वयं समूहों के महिलाओं रीना उर्मिला के सहयोग से कम से कम एक धात्री महिला और एक गर्भवती महिला के घर पोषण वाटिका बनाई गई। देवरिया खास, भटजमुआं, लच्छी फुलवरिया, डुमरिया लाला, मुंडेरा, विशनपुर फुलवरिया, बाघा मठिया आंगनबाङी केन्द्रों पर भी रेसिपी प्रदर्शनी लगाकर लाभार्थियों व किशोरियों को पोषाहार से व्यंजन बनाने का तरीका बताया गया।
इस अवसर पर आंगनबाड़ी लछमीना देवी संध्या देवी, सुनीता रीना स्वयं सहायता समूह की उर्मिला यादव, रीना यादव सहित बच्चे, किशोरियां,गर्भवती व धात्री महिलाएं मौजूद रहीं।

पोषणयुक्त भोजन जरूरी

जिला कार्यक्रम अधिकारी सत्येंद्र कुमार सिंह ने कहा कि बच्चों के सुरक्षित भविष्य के लिए गर्भवती व धात्री के साथ-साथ बच्चों को पोषणयुक्त भोजन करना बहुत ही जरूरी है। जिन्हे जागरूक करने के लिए जिले के विभिन्न केन्द्रों पर आयोजित रेसिपी प्रदर्शनी में महिलाओं व किशोरियों को बताया गया कि कैसे मीठे व नमकीन पोषाहार से विभिन्न स्वाद के व्यंजन बनाये जा सकते हैं।
23 हजार बच्चे अति कुपोषित

जिला कार्यक्रम अधिकारी सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि जिले के 2 लाख 30 हजार 99 बच्चों का वजन किया गया है। जिसमे 23830 बच्चे अति कुपोषित, 58628 बच्चे कुपोषित और 1 लाख 61 हजार 941 बच्चे नार्मल चिन्हित किये गए हैं।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here