मानवता की हदें पार करते हुए पुलिस ने युवक को बंद कमरे में पीटा

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स
देवरिया जनपद की खुखुन्दू थाना क्षेत्र के ख़िरसर गांव में दो पक्षों के विवाद की सूचना पर दो कॉन्स्टेबल पहुचे और थाने से सूचना देंकर फ़ोर्स बुलाए फिर एक युवक के उलझने की बात कह कर उसे थाने ले आए। थाने के कमरे में बंद कर करीब पांच – छह पुलिसकर्मियों ने मानवता की हदें पार करते हुए युवक की बारी-बारी से हाथ – पैर पकड़कर पिटाई किया। उसके बाद शरीर ने खुजली का मलहम का लेप लगा कर उसे पीटते रहे। वह बेहोश हो गया। इस घटना का अंजाम पुलिसकर्मियों ने एसओ की गैर मौजूदगी में दिया। मामले को बढ़ता देख पीड़ित युवक का मेडिकल करा कर दूसरे पक्ष के एक को शांति भंग में चालान कर दिया।
मिली सूचना के मुताबिक थाना क्षेत्र के ख़िरसर निवासी अनूप यादव का गांव के सुरेश यादव से बुधवार को पूर्व में आंधी में गिरे आम के पेड़ की डाली को लेकर कहासुनी हो गई। मामला थाने तक पहुंच गया। दोनों पक्षों के साथ एसओ ने बातचीत की। पंचायत में सुरेश को डाली देने का निर्णय हुआ था। दोनों पक्ष संतुष्ट होकर घर चले गए। बताया जा रहा है कि घर जाने पर फिर दोनों पक्ष उलझ गए। सूचना पर दो कांस्टेबल पहुंच गए। आरोप है कि कांस्टेबल दोनों पक्षों को समझाने की बजाय एकतरफा अनूप के परिवार को फटकारने लगे। अनूप ने विरोध किया तो कांस्टेबल ने थाने पर सूचना देकर फोर्स बुला ली। अनूप का आरोप है कि थाने लाकर एक कमरे में बंद कर दिया गया। 45 मिनट तक शरीर पर खुजली का मरहम पोतकर मारते-पीटते रहे। इस दौरान मैं बेहोश हो गया। होश में आने पर लॉकडाउन की बात कहकर मुंह खोलने पर अनगिनत मुकदमों में फंसाने की धमकी दी गई। पीड़ित का कहना है कि एसओ को भी सिपाहियों ने गलत जानकारी दी। एसओ से भी नहीं बताने की धमकी दी गई। हालांकि एसओ ने एकतरफा कार्रवाई पर नाराजगी जताई तो सिपाहियों ने दूसरे पक्ष से सुरेश को थाने बुलाकर बृहस्पतिवार को दोनों को शांतिभंग मामले में चालान किया। एसओ श्यामसुंदर तिवारी ने बताया कि पीड़ित ने मुझे पूरी बात बताई है। सिपाहियों को फटकार लगाई गई है।
पीड़ित ने पत्र लिख लगाई न्याय की गुहार
पीड़ित अनूप ने जमानत के बाद एसओ को पूरे घटना क्रम से अवगत कराया। इसके बाद शनिवार को दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए एसपी के नाम पत्र लिखकर उसकी प्रतिलिपि आईजी, डीआईजी, डीजीपी, प्रमुख गृह सचिव, सीएम और मानवाधिकार को रजिस्टर्ड डाक से भेजा है।
मामला संज्ञान में नहीं है। एसओ से बात करता हूं। अगर ऐसी शिकायत है तो पूरे प्रकरण की जांच कराकर दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। – वरुण कुमार मिश्र, सीओ सलेमपुर।

देवरिया टाइम्स की खबरों का अपडेट मोबाइल पर पाने के लिए,अपने व्हाट्सएप्प से DT लिखकर 8318183628 पर भेजें,इसके अलावा आप हमारे फेसबुक पेज देवरिया टाइम्स को लाइक करके भी हमारे साथ जुड़ सकतें है,और अपडेट पा सकतें हैं.

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here