भूमि विवाद में कपड़ा व्यवसाई की पीट-पीटकर हत्या

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

देवरिया के मईल क्षेत्र में भूमि विवाद को लेकर गुरुवार की सुबह एक कपड़ा व्यवसाई की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। वहीं पांच लोग जख्मी हो गए। वारदात को पड़ोस में रहने वाले एक रिटायर्ड दरोगा ने कुछ अन्य लोगों के साथ मिलकर अंजाम दिया। घटना से आक्रोशित लोग मईल थाने का घेराव करने के बाद शव सड़क पर रख धरने पर बैठ गए। परिजन पुलिस पर हत्यारों को बचाने का आरोप लगा रहे थे। पुलिस ने रिटायर्ड दरोगा, उसके तीन पुत्रों व सात अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करते हुए चारों नामजदों को हिरासत में ले लिया है।

मईल थाना क्षेत्र के बगहा गांव के रहने वाले हरिशंकर गुप्ता ( 60) मईल चौराहे पर मकान बनवाकर कपड़े की दुकान चलाते थे। बुधवार को उनके परिजनों ने गांव की भूमि पर पड़ोसी द्वारा कब्जा करने की जानकारी दी। इस पर वह अपने बेटे के साथ घर पहुंचे। आरोप है कि उनकी भूमि पर पड़ोसी रिटायर्ड दरोगा रामायन सिंह बारी ने नांद और अन्य समान तोड़ते हुए दीवार उठा दी थी। उन्होंने इसका विरोध किया तो रिटायर्ड दरोगा और उसके परिजन विवाद पर उतारू हो गए। आसपास के लोगों ने समझा-बुझाकर मामला शांत करा दिया।

गुरुवार की सुबह रिटायर्ड दरोगा ने कुछ अन्य लोगों के साथ लाठी-डंडे से लैस होकर हरिशंकर के घर पर हमला कर दिया। हमलावर हरिशंकर को पीटने लगे। परिवार के सदस्य उन्हें बचाने आए तो हमलावरों ने उन्हें भी मारपीट कर घायल कर दिया। परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी, लेकिन पुलिस समय रहते मौके पर नहीं पहुंची। हमलावरों की पिटाई से हरिशंकर गुप्ता की मौत हो गई, जबकि उमाशंकर पुत्र हीरा, संतोष गुप्ता पुत्र हरिशंकर, प्रमोद पुत्र हरिशंकर, विपुल पुत्र उमाशंकर और उमा शंकर की पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गए। आसपास के लोगों और परिजनों ने घायलों को पीएचसी भागलपुर पहुंचाया, जहां से प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें जिला अस्पताल देवरिया रेफर कर दिया गया।

उधर, घटना से नाराज ग्रामीण पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए थाने का घेराव करते हुए मईल-मुसैला मार्ग पर शव रखकर धरने पर बैठ गए। ग्रामीण उच्चाधिकारियों को बुलाने और अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। तीन घंटे बाद एएसपी शिष्यपाल मौके पर पहुंचे और लोगों को समझा-बुझाकर जाम समाप्त कराया। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

परिजनों का आरोप है कि हत्यारोपी रिटायर्ड दरोगा है। इसके चलते मईल पुलिस उसके सहयोग में खड़ी रहती है। पिछले एक माह में कई बार विवाद हो चुका था। उसकी सूचना थाने को दी गई थी, लेकिन पुलिस ने दबाव में कोई कार्रवाई नहीं की। इससे दबंगों का मन बढ़ गया और उन लोगों ने हरिशंकर की हत्या कर दी। गुरुवार की शाम को डीएम अमित किशोर और एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने मौका मुआयना ग्रामीणों और पीड़ितों से घटना के बारे में जानकारी ली। मृतक के परिजनों ने डीएम को ज्ञापन सौंपकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। देर शाम तक डीएम और एसपी मईल थाने में बैठे रहे।

पुलिस ने देर शाम मृतक के पुत्र प्रमोद गुप्ता की तहरीर पर रिटायर्ड दरोगा रामायन सिंह बारी, उसके पुत्रों कृष्ण कुमार, बलराम और धनंजय और सात अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने चारों नामजदों को हिरासत में ले लिया है। बाकी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

भूमि विवाद में हुई मारपीट में वृद्ध की मौत हो गई है। शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करते हुए चार को हिरासत में लिया गया है। बाकी की भी गिरफ्तारी के निर्देश दिए गए हैं।

डॉ. श्रीपति मिश्र, एसपी, देवरिया

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here