गौरीबाजार :सर्पदंश के बाद तीस घंटे झाड़फूंक , मासूम की मौत

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

हम 21 वी सदी के भारत मे है ,लेकिन ग्रमीण क्षेत्रों में अभी भी अंधविश्वास का खेल जारी है। देवरिया जिले के गौरीबाजार थाना क्षेत्र के उभाव गांव में एक बच्चे को सर्प ने शनिवार के भोर में काट लिया । उसके बाद करीब 30 घंटे तक झाड़फूंक चला। फिर भी बच्चे को नही बचाया जा सका ।
मिली सूचना के अनुसार गौरीबाजार के उभाव के राज निषाद उम्र 7 वर्ष पुत्र कृष्णा अपनी मां के साथ कमरे सो रहा था। शनिवार की भोर में उसे एक जहरीले सांप ने काट लिया । बच्चे के रोने पर परिजनों (माता-पिता) उसे एक देवी के स्थान पर लेकर पहुचे, वहां से आने के बाद बच्चे के शरीर को दरवाजे पर रख दिए। मासूम को जिलाने के लिए रविवार की दोपहर तक झाड़फूंक चलता रहा।

 अंधविश्वास के चलते परिवार वाले इस उम्मीद में झाड़फूंक कराने में जुटे थे कि मासूम जीवित हो सकता है।

झाड़-फूंक को देखने के लिए आसपास के सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गई। मासूम के जीवित नहीं होने पर आखिर में हार थक कर घर वालों को उसका अंति संस्कार करना पड़ा। पिता कृष्णा व माता रंजीता अपने इकलौते बेटे के सर्प दंश के शिकार होने पर सदमे में है।

सर्पदंश के बाद मरीज को तुरंत चिकित्सक के पास लेकर जाना चाहिए। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर सांप काटने का इंजेक्शन उपलब्ध है। झाड़फूंक के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए।
डा. रतनलाल, अधीक्षक सीएचसी-गौरीबाजार

देवरिया टाइम्स की खबरों का अपडेट मोबाइल पर पाने के लिए,अपने व्हाट्सएप्प से DT लिखकर 8318183628 पर भेजें,इसके अलावा आप हमारे फेसबुक पेज देवरिया टाइम्स को लाइक करके भी हमारे साथ जुड़ सकतें है,और अपडेट पा सकतें हैं.

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here