दो सगे भाइयों की गोली मारकर हत्या, पिता समेत छह घायल,14 के खिलाफ हत्या सहित गंभीर धाराओं में केस दर्ज


देवरिया टाइम्स

बरहज क्षेत्र के चकरा नोनार गांव में दो पक्षों में हुए खूनी संघर्ष में दो सगे भाइयों की हत्या के मामले में मृतक के भाई भीम यादव पुत्र लालधारी की तहरीर पर महिला समेत 14 नामजद लोगों के खिलाफ हत्या सहित गंभीर धाराओं में केस दर्ज कर पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है।


तहरीर में कहा है कि 10 नवंबर को चाचा लल्लन यादव का निधन हो गया था। उनका 25 नवंबर को ब्रह्मभोज है। मंगलवार की सुबह साफ-सफाई की जा रही थी। इसी बीच हंसनाथ के घर से विवाद हो गया। लाठी-डंडा, फरसा, भाला, बंदूक और कट्टा आदि के साथ लोग टूट पडे़। बैजनाथ ने मेरे भाई रमेश और लालजी ने कोकिल को गोली मार दी। उनकी घटनास्थल पर ही दोनों की मौत हो गई। जबकि बेचू यादव, राजाराम यादव, अंकित यादव, देवानंद गोली लगने से घायल हो गए। लालधारी, शिवानंद, विनोद को लाठी-डंडे और ईंट-पत्थर लगने से गंभीर चोटें आई हैं। पुलिस ने पारस, हंसनाथ, बैजनाथ, पवन, रागिनी, लालजी, अमरेश, रंजीत, रोहित, दिग्विजय, राकेश, देवेंद्र, पंकज, अजय के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है।


नैनीताल से तीन दिन पूर्व ही घर आए थे दोनों भाई
चकरा नोनार के रिटायर्ड शिक्षक एवं पूर्व प्रधान लल्लन यादव का दस दिन पूर्व निधन हो गया था। उनकी तेरहवीं 25 नवम्बर को है। तीन दिन पूर्व ही दोनों सगे भाई रमेश और कोकिल गांव आए थे। उन्हें क्या पता कि मौत उनका इंतजार कर रही है। दोनों भाइयों की मौत से गांव में कोहराम मच गया।


दोपहर बाद घटना स्थल पहुँचे डी आई जी रेंज
दो भाइयों की हत्या की घटना के बाद मंगलवार को दोपहर बाद करीब एक बजे डीआईजी रेंज जे रवींद्र गौंड ने मातहतों को सख्त कार्रवाई की हिदायत दी। करीब आधा घंटा रहे डीआईजी ने परिजनों और मातहतों से पूछताछ की। परिजनों के पुलिस पर लगाए जा रहे सवालिया निशान पर डीआईजी ने जांच कराकर कार्रवाई करने को कहा। एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने बताया कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। परिवार के सुरक्षा पर भी निगाह रखी जाएगी। घटना के बाद गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। मौके पर तीन थानों की पुलिस और डेढ़ सेक्शन पीएसी तैनात की गई है।


स्वजनों के चीत्कार से आंसू से भर आयी आंखे
दो सगे भाइयों की हत्या एवं छह लोगों के घायल होने के बाद इमरजेंसी एवं गांव में बेबस परिजन घायलों को बचाने के लिए चीखते-चिल्लाते रहे। इस दर्दनाक मंजर को देखने वालों की रूह कांप गई। साथ आएं ग्रामीणों एवं रिश्तेदारों के आंखों में आंसू बहने लगे। उधर देर शाम दोनों भाईयों के शव का पोस्टमार्टम हुआ। इस दौरान जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन ग्रामीणों ने पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद एडीएम प्रशासन कुंवर पंकज को दिया।


परिजनों और ग्रामीणों का आरोप है कि छह माह पहले पाबंदी भी गया था। थाने पर तैनात एक दरोगा की भूमिका संदिग्ध है। वह आरोपी पक्ष से मिला है। इसकी जांच कर कार्रवाई की जाए। पीड़ित परिवार को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाए। ज्ञापन देने वालों में दिलीप यादव, भीम यादव, सुनील यादव, सोनू यादव आदि रहे।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर