परिषदीय विद्यालयों के बच्चों के ड्रेस के लिए धनराशि डी०बी०टी० के माध्यम से अब बैंक खाते में अंतरित


देवरिया टाइम्स। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी संतोष कुमार राय ने बताया है कि प्रमुख सचिव उ0प्र0 शासन एवं जिलाधिकारी के निर्देशानुसार सभी राजकीय/परिषदीय एवं सहायता प्राप्त प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कक्षा 1-8 में अध्ययनरत छात्र छात्राओं को निःशुल्क यूनीफॉर्म, स्वेटर, स्कूल बैग, एवं जूता-मोजा क क्रय के समतुल्य धनराशि डी०बी०टी० के माध्यम से उनके माता-पिता/अभिभावकों के बैंक खाते में अंतरित किए गए हैं।


उक्त प्रक्रिया के अन्तर्गत छात्र-छात्राओं की पात्रता को गत वर्ष की भाँति रखते हुए दो सेट यूनीफार्म हेतु प्रति सेट रू० 300/- की दर से रू० 600/- की धनराशि स्वेटर के लिए रू0 200/- की धनराशि स्कूल बैग के लिए रू0 175 /- की धनराशि तथा एक जोड़ी जूता एवं दो जोड़ी मोजा के लिए रू0 125/- की धनराशि उनके माता-पिता / अभिभावकों के आधार सीडेड बैंक खातों में पी०एफ०एम०एस०-डी०बी०टी० माड्यूल द्वारा अंतरित की जा रही है। चूंकि पी०एफ०एम०एस०-डी०बी०टी० मॉड्यूल द्वारा उक्त धनराशि के अन्तरण हेतु आधार बेस्ड भुगतान की प्रक्रिया अपनायी जा रही है, अतः इस प्रक्रिया के अन्तर्गत धनराशि का अन्तरण उन्हीं बैंक खातों में किया जाना सम्भव हो पाएगा, जो बैंक खाते आधार से सीडेड और सक्रिय होंगे।


सभी छात्र छात्राओं के माता-पिता/अभिभावकों के बैंक खातों में धनराशि हस्तान्तरण हेतु यह आवश्यक है कि जिन माता-पिता /अभिभावकों के बैंक खाते आधार से सीडेड नहीं है अथवा सक्रिय नहीं है, उन्हें आधार से सीड करवाया जाए और सक्रिय कराया जाए। साथ ही यह भी सुनिश्चित कराया जाना आवश्यक है कि डी०बी०टी० के माध्यम से प्राप्त होने वाली धनराशि का उपयोग अभिभावकों द्वारा अपने बच्चों के यूनीफॉर्म, स्वेटर, स्कूल बैग एवं जूता मोजा के क्रय में ही किया जाए। यूनीफॉर्म, स्वेटर, स्कूल बैग एवं जूता मोजा के रंग और डिजाइन गत वर्ष की भाँति ही होना अनिवार्य है।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर