जनपद न्यायालय में हुआ ई-लोकअदालत का सफल आयोजन

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

01 नवम्बर मोटर दुर्घटना वाद में 39 मुकदमें का हुआ तत्काल निस्तारण मौके पर ही रूपये 2,00,84,000/-(दो करोड़ चैरासी हजार) की धनराशि क्षतिपूर्ति की रूप में पीड़ित पक्षकारों को दिलायी गयी, परिवारिक वाद में 21 दम्पत्यिों के मामले निस्तारित इस तरह कुल 60 वादों/मुकदमों जो न्यायालय में वर्षो से लम्बित थें का हुआ तत्काल निस्तारण जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देवरिया के तत्वावधान में दिनांकः 01.11.2020 दिन रविवार को सुबह 10.30 बजे सेें मोटर दुर्घटना वादों तथा परिवारिक वादों के निस्तारण हेतु ई-लोक अदालत का आयोजन किया गया जिसमें मौके पर ही 60 वादों/मुकदमों का निस्तारण किया गया। इस ई-लोक अदालत का उद्घाटन जनपद न्यायालय के माननीय न्यायाधीशगण द्वारा फीता काटकर व मां सरस्वती की प्रतिमा का माल्यार्पण एवं द्वीप प्रज्ज्वलन के साथ किया गया।

इस प्रकार इस ई-लोक अदालत में माननीय जिला एवं सत्र न्यायाधीश देवरिया के न्यायालय से 02 मोटर दुर्घटना तथा 04 अन्य वाद कुल 06 वादों का निस्तारण किया गया जिसमें प्रतिकर के रूप में मु0-9,65,000/-रूपये की धनराशि पीड़ित पक्षकरों को दिलाया गया। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश देवरिया श्री रजनीश कुमार द्वारा मोटर दुर्घटना प्रतिकर के कुल 06 वादों का निस्तारण किया गया तथा प्रतिकर के रूप में मु0-28,50,000/-रूपये की धनराशि पीड़ित पक्षकारों को दिलाया गया। अपर जिला एवं सत्र न्यायायाधीश देवरिया श्री सत्येन्द्र नाथ त्रिपाठी द्वारा मोटर दुर्घटना प्रतिकर के कुल 03 वादों का निस्तारण किया गया तथा प्रतिकर के रूप में मु0-34,50,000/-रूपये की धनराशि पीड़ित पक्षकारों को दिलाया गया। अपर जिला एवं सत्र न्यायायाधीश देवरिया श्री अजय कुमार द्वारा मोटर दुर्घटना प्रतिकर के कुल 13 वादों का निस्तारण किया गया तथा प्रतिकर के रूप में मु0-65,67,000/-रूपये की धनराशि पीड़ित पक्षकारों को दिलाया गया। अपर जिला एवं सत्र न्यायायाधीश देवरिया श्री शाश्वत पाण्डेय द्वारा मोटर दुर्घटना प्रतिकर के कुल 05 वादों का निस्तारण किया गया तथा प्रतिकर के रूप में मु0-23,02,000/-रूपये की धनरासमस्त समाचार पत्रों में निःशुल्क प्रकाशन हेतु।

श्रीमान् संपादकः-शि पीड़ित पक्षकारों को दिलाया गया। अपर जिला एवं सत्र न्यायायाधीश देवरिया श्री लोकेश कुमार द्वारा मोटर दुर्घटना प्रतिकर के कुल 05 वादों का निस्तारण किया गया तथा प्रतिकर के रूप में मु0-39,50,000/-रूपये की धनराशि पीड़ित पक्षकारों को दिलाया गया। इसके साथ परिवार न्यायालय से संबंधित मामलें दंपत्यिों के वर्षों से लम्बित मामलें में कुल 21 वादों का निस्तारण करते हुये कई जोड़ों को समझौता कराकर न्यायालय से ही विदाई की गयी जिसमें तस्लीम अंसारी बनाम गुलशन खातून, अंजली सिंह बनाम अनूप कुमार सिंह, जमशेद अंसारी बनाम शबनम खातून, श्वेता  सिंह बनाम संदीप सिंह, रूबिना खातून बनाम सफीउल्लाह, सुमन देवी बनाम रामप्रवेश विश्वकर्मा आदि थे। प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय देवरिया श्री मोहन लाल विश्वकर्मा द्वारा कुल 05 वादों का निस्तारण करते हुये पति-पत्नी के रूप में मुकदमा लड़ रहें परिवारों को मिलाया गया। अपर प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय देवरिया श्री अनिरूद्ध कुमार तिवारी द्वारा कुल 02 वादों का निस्तारण करते हुये पति-पत्नी के रूप में मुकदमा लड़ रहें परिवारों को मिलाया गया। अपर प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय देवरिया श्री मनोज कुमार मिश्र द्वारा के कुल 08 वादों का निस्तारण करते हुये पति-पत्नी के रूप में मुकदमा लड़ रहें परिवारों को मिलाया गया। अपर प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय देवरिया    श्री विष्णु प्रताप सिंह  द्वारा के कुल 06 वादों का निस्तारण करते हुये पति-पत्नी से संबंधित मामले का निस्तारण किया गया।

इस प्रकार इस ई-लोक अदालत में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के सचिव न्यायाधीश शिवेन्द्र कुमार मिश्र के प्रयास से मोटर दुर्घटना वाद से संबंधित कुल 39 वादों का निस्तारण करातें हुये पीड़ित पक्षकरों को क्षतिपूर्ति के रूप में कुल रूपये 2,00,84,000/-(दो करोड़ चैरासी हजार) की धनराशि दिलायी गयी तथा परिवार न्यायालय में कुल 21 परिवार वादों का तत्काल निस्तारण करते हुये पति-पत्नियों से संबंधित मामलें जो वर्षो से लम्बित थे, को निस्तारित किया गया।

ई-लोक अदालत के अवसर पर सुरक्षाकर्मियों के द्वारा सुरक्षा की व्यवस्था की गयी थी तथा स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा कोविड-हेल्प डेस्क लगाया गया था जिसमें जांच कर के ही उपस्थित व्यक्तियों को न्यायालय परिसर एवं सभागार में भेजा गया। इस अवसर पर सभी न्यायाधीशगण, नोडल अधिकारी अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री नवीन कुमार सिंह, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री भूपेन्द्र प्रताप, विद्वान अधिवक्तागण, न्यायालय स्टाफ, सुरक्षाकर्मी, स्वास्थ्यकर्मी एवं वादकारीगण उपस्थित रहें। इस प्रकार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा ई-लोक अदालत का सफल आयोजन संपन्न हुआ।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here