दामिनी एप से 4 घंटे पहले पाए वज्रपात की चेतावनी


देवरिया टाइम्स।

अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व/ नोडल अधिकारी जिला आपदा प्रबंधन समिति नागेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि दामिनी एप के माध्यम से 4 घंटे पूर्व वज्रपात की सूचना मिल जाती है, जिससे संभावित मानवीय क्षति को रोका जा सकता है।

एडीएम (वित्त एवं राजस्व) ने बताया कि अधिसूचित आपदाओं की पूर्व चेतावनियों / अलर्ट को आम जनमानस तक समय से पहुचांकर प्रदेश आपदा से होने वाली जनहानि के न्यूनीकरण हेतु राहत आयुक्त कार्यालय, उत्तर प्रदेश द्वारा इंन्टीग्रेटेड अर्ली वार्निंग सिस्टम विकसित किया गया है। इन्टीग्रेटेड अर्ली वार्निंग सिस्टम मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट / डाटा को फेच करके राहत आयुक्त कार्यालय की वेबसाइट पर रजिस्टर्ड ग्राम प्रधानों (पूर्व एवं नवनिर्वाचित), लेखपालों, आंगनवाड़ी कार्यकत्री आशा पुलिसकर्मियों एवं लगभग 1.20 करोड़ कृषकों को बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के रियलटाइम में प्रेषित करता है।

इन्टीग्रेटेड अर्ली वार्निंग सिस्टम के माध्यम से किसी संभावित आपदा / खराब मौसम का अलर्ट मात्र उन्हीं लोगों को प्राप्त होता है, जिनका मोबाइल नम्बर राहत आयुक्त कार्यालय की वेबसाइट पर रजिस्टर्ड है। परन्तु प्रदेश में प्रतिवर्ष वज्रपात से होने वाली क्षतियों के दृष्टिगत ऐसी व्यवस्था की आवश्यकता है, जिसकी पहुंच आम जनमानस तक आसानी से हो।

उन्होंने बताया कि पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मेट्रोलॉजी ने वज्रपात की पूर्व चेतावनी / अलर्ट प्रेषित किये जाने हेतु ‘दामिनी एप’ विकसित किया गया है। इस एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। दामिनी एप लगभग 20 किमी० व क्षेत्र में संभावित लाइटनिंग अलर्ट का नोटिफिकेशन लगभग 04 घंटे पूर्व प्रेषित करता है जिससे व्यक्तियों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचने तथा बचाव का अवसर प्राप्त हो सकेगा।

एडीएम (वित्त एवं राजस्व) ने कहा कि वज्रपात की पूर्व चेतावनी / अलर्ट को अधिक से अधिक व्यक्तियों तक पहुंचाने के लिये दामिनी एप को जनपद / तहसील / ग्राम / ब्लाक स्तर के सम्बन्धित अधिकारियों, समस्त ग्राम प्रधानों, लेखपालों, आंगनबाड़ी कार्यकत्री एवं आशा एप को डाउनलोड करें तथा आम जनमानस को भी दामिनी एप को डाउनलोड करने के लिये प्रेरित करें, जिससे वज्रपात की पूर्व चेतावनी / अलर्ट अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सके तथा वज्रपात से होने वाली क्षतियों को कम किया जा सके।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर