माँ-बच्चे के पोषण में मददगार बनेगी पीएमएमवीवाई


देवरिया टाइम्स।
पहली बार गर्भवती होने पर प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) मातृ पोषण में काफी सहायक बन रही है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य गर्भवती और गर्भस्थ शिशु को पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व उपलब्ध कराना है। योजना का अधिकाधिक लाभ दिलाने के लिए एक से सात सितम्बर तक चले प्रधानमंत्री मातृ वंदना सप्ताह में आशा कार्यकर्ताओं ने पहली बार गर्भवती बनने वाली 537 महिलाओं का पंजीकरण कराया है। आवश्यक प्रक्रिया के बाद इन महिलाओं को पोषण के लिए तीन किस्तों में पांच हजार रुपये मिलेंगे।

योजना के नोडल अधिकारी डॉ. बीपी सिंह ने बताया- मातृ वंदना सप्ताह में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर पंजीकरण शिविर एवं बैक लॉग निस्तारण शिविर का आयोजन किया गया । सात दिनों में 537 पंजीकरण किए जा चुके है। उन्होंने बताया वार्षिक पंजीकरण लक्ष्य के साथ-साथ लंबित प्रकरणों का भी निस्तारण किया जा रहा है।

आशा कार्यकर्ता अपने -अपने कार्य क्षेत्र में योजना के विषय में पात्र लोगों को घर-घर जाकर लाभ लेने के लिये प्रेरित कर रही हैं। गृह भ्रमण के दौरान आशा कार्यकर्ता लाभार्थियों को लाभ लेने की पूरी प्रक्रिया और पात्रता की जानकारी दे रही हैं। डॉ सिंह ने बताया पहली बार माँ बनने वाली गर्भवती को प्रधानमंत्री मातृ वंदन योजना के तहत पहली किस्त के रूप में एक हजार रूपये गर्भ के 150 दिनों के अंदर दिए जाते हैं।

दूसरी किस्त के तौर पर दो हजार रूपये 180 दिनों के अंदर गर्भवती की आवश्यक जांचें पूरी होने पर दी जाती है। तीसरी किस्त दो हजार रूपये प्रसव के बाद व शिशु के प्रथम टीकाकरण चक्र पूरा होने पर मिलते हैं। उन्होंने बताया कि वर्ष 2017 में यह योजना आरंभ की गयी थी। जिले में अब तक योजना के तहत 85398 लाभार्थियों जोड़ा जा चुका है। लाभार्थियों को 33 करोड़ रुपये वितरित किये जा चुके हैं। उन्होंने बताया कोई भी व्यक्ति टोल फ्री नम्बर 104 पर कॉल कर योजना संबंधी अपनी शंका का समाधान कर सकता है।

आशा के सहयोग से हुआ पंजीकरण

सदर ब्लॉक के रामगुलाम टोला निवासी सोनी राव (30) बताती हैं कि उनके पति तेज प्रताप सिंह बेरोजगार हैं। वह पहली बार माँ भी बनी हैं। गर्भ धारण के दौरान गांव की आशा कार्यकर्ता सरिता पांडेय ने प्रधानमंत्री मातृ वंदन योजना के बारे में जानकारी दिया। आशा ने बताया कि पहली बार माँ बनने वाली महिलाओं को गर्भावस्था में पर्याप्त पोषक आहार के लिए योजना के तहत पांच हजार रूपये तीन किस्तों में दिए जाते हैं, जिसके लिए पंजीकरण कराना होता है। उन्होंने बताया कि 5 सितम्बर 2022 को आशा कार्यकर्ता ने फार्म ए,बी,सी भरकर हस्ताक्षर के बाद फार्म को पीएचसी चकियवा में जमा किया।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर