लापरवाही : गोरखपुर के कोविड संक्रमित महिला का शव पहुचा देवरिया बाद में हंगामे के बाद सुधारी गलती

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

बीआरडी मेडिकल कालेज में शुक्रवार को कोविड वार्ड में मरीजों के शव ही बदल गए। गोरखपुर के मरीज का शव देवरिया से आए परिजनों को दे दिया गया। वह शव लेकर घर को रवाना हो गए। जब गोरखपुर के लोग पहुंचे और शव पर नाम देखा तो ‌परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। सूचना पर म‌ेडिकल चौकी इंजार्च पहुंचे और आनन-फानन में देवरिया से शव मंगाया गया। तब मामला शांत हुआ। 

गीडा थाना क्षेत्र के तेनुआ निवासी मुन्नीलाल की पत्नी छोहाड़ी देवी (75) को गुरुवार को बीआरडी मेडिकल कॉलेज के 300 बेड के कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान देर रात मौत हो गई ‌थी। शुक्रवार की दोपहर बेटा श्रवण यादव अपने शुभचिंतकों के साथ कोरोना वार्ड पहुंचा तो उसके मां की जगह रघुनाथ पटेल का टैग लगा हुआ शव ‌दे दिया गया। टैग को देखकर बेटा हैरान रह गया। श्रवण ने कोविड वार्ड के कर्मचारियों से अपनी मां का शव मांगा। कर्मचारियों ने बताया गया कि उनका शव कोई और लेकर चला गया। इस पर परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। सूचना पर दूसरे मरीजों के परिजन भी जुटने लगे।

मौके पर पहुंची पुलिस
इस बीच हंगामे की सूचना पर मेडिकल चौकी इंचार्ज गौरव राज कन्नौजिया टीम के साथ पहुंचे। उन्होंने किसी तरह मामला शांत कराते हुए मामले की जानकारी ली। बताया गया कि महिला का शव गलती से देवरिया जिले के भटनी थाना क्षेत्र के देवघाट निवासी रघुनाथ पटेल के नाम पर चला गया था। इनकी मौत शुक्रवार को इलाज के दौरान कोविड वार्ड में हुई थी। 

थोड़ी देरी होती तो हो जा‌ता दाह संस्कार 
देवरिया के भटनी थाना क्षेत्र के देवघाट निवासी रघुनाथ पटेल के नाम पर परिजनों को गलती से छोहाड़ी देवी का शव दे दिया गया था। परिजन शव का दाह संस्कार करने ही जा रहे थे। इस बीच आनन-फानन में पुलिस ने देवरिया में परिजनों को फोन किया। इसके बाद परिजन शव लेकर वापस बीआरडी मेडिकल कालेज पहुंचे। जहां पर पुलिस ने शव को एक-दूसरे के परिजनों को सौंप दिया। तब जाकर मामला शांत हुआ।

महिला कर्मचारी नाम वाले टैग पर सैनेटाइजर स्प्रे कर दिया गया था जिससे नाम मिट गया। इस वजह से कर्मचारियों से चूक हो गई। जैसे ही मामले की जानकारी मिली तत्काल शव को देवरिया मंगवाकर परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। 
डॉ. गणेश कुमार, प्राचार्य, बीआरडी मेडिकल कॉलेज

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here