आगामी 10 जुलाई को आयोजित होगा राष्ट्रीय लोक अदालत,अधिक से अधिक वादो का निस्तारण किए जाने की है जरुरत


देवरिया टाइम्स

आगामी 10 जुलाई को आयोजित होने वाले राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक वादो को प्रस्तुत करने और उसका निस्तारण कराए जाने की अपेक्षा सभी संबंधित न्यायालयों एवं विभागो से की गयी है। इस लोक अदालत के माध्यम से सुलहनीय वादो का आपसी सहमति के आधार पर उसका निस्तारण किया जाता है। वादकारी एवं पक्षकारों के मामले निस्तारित होते है, जिससे उनका समय, भागदौड आदि के बचत के साथ ही उन्हे त्वरित न्याय मिल जाता है। इसलिये अधिक से अधिक वादो को प्रस्तुत करें और उसका समाधान सुनिश्चित कराएं।


जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के नोडल अधिकारी लोकेश कुमार तथा सचिव आरिफ निसामुद्दीन खान ने उक्त अपेक्षायें करते हुए कहा कि जुडे सभी अधिकारी अपने विभाग से अधिक से अधिक मामलों को अभी से चिन्हित करें, ताकि लोक अदालत के दिन उसका सुगमतापूर्वक निस्तारण किया जा सके तथा तहसील स्तर भी बैठकों को आयोजित कर मामलें को चिन्हित करने की कार्यवाही अभी से की जाए। राजस्व से संबंधित मामले, श्रम विभाग के मामले, विद्युत विभाग के मामले, बैंक से संबंधित ऋण मामले, दुर्घटना बीमा से संबंधित मामले को अधिक से अधिक संख्या में निस्तारण करने हेतु अभी से तैयारी सुनिश्चित कर लें। सभी विभाग अत्यधिक मामलों के निस्तारण के लक्ष्य को निर्धारित करें एवं उसको समस्त व्यक्तियों के प्रयास से क्रियान्वित करें ताकि आम जनमानस को मुकदमें एवं वादों से निजात दिलाया जा सके।

राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक संख्या में मोटर दुर्घटना एवं दुर्घटना बीमा प्रतिकर वादों, बैंको के ऋण आदि मामलों को निस्तारित कराए जाने पर बल दिया। उन्होंने समस्त संबंधित विभागों को नोटिसों का तामिला समय से कराने हेतु कहा। बैंकों एवं बीमा के प्रबंधकगण व अन्य अधिकारियों को एक साथ आगे आने का आह्वान किया। बैंक ऋण, दुर्घटना बीमा, श्रम विभाग, विद्युत विभाग, राजस्व विभाग, पारिवारिक, अन्य कोई भी सुलहनीय मामले या छोटे-मोटे संबंधित मामलों का निस्तारण किया जायेगा।
सिविल जज सिनियर डिविजन शिवेन्द्र मिश्रा ने लोक अदालत में अधिक से अधिक वादो का निस्तारण कराए जाने में सभी विभागो के समन्वय पर बल दिया.

राष्ट्रीय लोक अदालत की सफलता हेतु पारिवारिक वादों के मामलों के निस्तारण हेतु विद्वान अधिवक्ताओं के साथ की गयी बैठक, दिये गये निर्देश

राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक संख्या में पारिवारिक वादों के निस्तारण हेतु अपर प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय द्वितीय के न्यायाधीश मनोज कुमार मिश्र के निर्देशानुसार आज जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के तत्वावधान में पारिवारिक वादों से संबंधित अधिवक्ताओं के साथ बैठक आहूत की गयी। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव न्यायाधीश आरिफ निसामुद्दीन खान ने कहा कि 10 जुलाई को राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक संख्या में पारिवारिक वादों का निस्तारण किया जायें। इसके लिए समस्त विद्वान अधिवक्ताओं ने एक साथ आगे आने का आह्वान किया। उन्होंने अधिवक्ताओं से कहा कि वे पक्षकारों से बात चीत करके सुलह करायें तथा अधिक से अधिक संख्या में पारिवारिक वादों को लोक अदालत में निस्तारण हेतु लगवायें। सचिव द्वारा यह भी कहा गया कि इस राष्ट्रीय लोक अदालत में व्यापक स्तर पर बैंक, बीमा, राजस्व, विद्युत, जल, सर्विस में वेतन एवं भत्ते, श्रम, मोटर दुर्घटना एवं अन्य लघु अपराधिक मामलों का निस्तारण किया जाना हैं।
इस बैठक में मुख्य रूप से विद्वान अधिवक्तागण जिनमें अनिल कुमार सिंह, परशुराम तिवारी, पंकज पाठक, त्रिपुरेश शर्मा, शैलेष राय, प्रवीझा कुमार, विनोद कुमार ठाकुर, सुधाकर पाण्डेय, अभिषेक मिश्र, अमरेन्द्र धर द्विवेदी, सुमित्र कुमारी पाण्डेय, ओमप्रकाश तिवारी, शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी व अन्य अधिवक्तागण उपस्थित रहें।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर