न्यायाधीशगणों ने किया राजकीय बाल गृह तथा पाथ वात्सल्य खुला आश्रय गृह का किया औचक निरीक्षण, दिये गये आवश्यक निर्देश


देवरिया टाइम्स। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के तत्वावधान में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ,सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण तथा सिविल जज (जे0 डी0 ) द्वारा राजकीय बाल गृह एंव पाथ वात्सल्य खुला आश्रय गृह का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश इन्द्रिरा सिंह द्वारा निर्देशित किया गया कि परिसर को निरंतर स्वच्छ रखा जाये तथा बच्चों के खेलने की समुचित व्यवस्था की जायें जिससे बच्चों का सर्वांगीण विकास हो सके।

इसके साथ ही बच्चों के दिनचर्या में व्यायाम को भी रखा जाये जिससे बच्चे शारीरिक रूप से मजबूत रहें। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सूर्य कांत धर दूबे ने बच्चों केे स्वास्थ सम्बन्धित समस्याओं को दूर करने के लिए कठोर निर्देश दिए। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के सचिव इशरत परवीन फारूकी द्वारा भोजन हेतु खाद्य सूची का निरीक्षण किया गया तथा भोजन में पौष्टिक आहार के साथ-साथ मीनू के अनुसार ही भोजन दिये जाने का निर्देश दिया गया।

उन्होंने कहा कि राजकीय बालगृह देवरिया में कुल 25 बच्चें तथा पाथ वात्सल्य खुला आश्रय में कुल 15 बच्चें वर्तमान में उपस्थित पाये गये। सिविल जज (जे0डी0) श्रीकान्त गौरव द्वारा बच्चों के अध्ययन का निरीक्षण किया गया और उनके पठन-पाठन के कार्य को और सुदृढ़ करने का निर्देश दिया गया।


इस निरीक्षण में मुख्य रूप से अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश इन्द्रिरा सिंह, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सूर्य कांत धर दूबे , सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण इशरत परवीन फारूकी, सिविल जज (जे0 डी0 ) श्रीकान्त गौरव, जिला परिवीक्षा अधिकारी अनिल कुमार सोनकर, राजकीय बाल गृह देवरिया के अधीक्षक यशोदानंद तिवारी, पाथ वात्सल्य एवं खुला आश्रय गृह समन्वयक अमित कुमार चैबे व अन्य सम्बन्धित कर्मचारीगण उपस्थित रहें।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर