देवरिया को विकास की प्रक्रिया में अग्रणी रखना, यह हमारी जिम्मेदारी है, और रहेगी-मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने देवरिया में चीनी मिल ग्राउन्ड में आयोजित कार्यक्रम के दौरान 16 दिव्यांगजन मोटरराईज्ड ट्राई साइकिल तथा विकास खण्ड भलुअनी अन्तर्गत ग्राम कोरया निवासी एक अति कुपोषित बच्ची के परिजनों को राष्ट्रीय पोषण माह के तहत दुधारु गाय व पोष्टिक डाली प्रदान किये। इस दौरान उन्होने कहा कि देवरिया को विकास की प्रक्रिया में अग्रणी रखना एवं देवरिया कही भी उपेक्षित महसुस नही करेगा, यह हमारी जिम्मेदारी है और रहेगी। मुख्यमंत्री श्री आदित्यनाथ ने आयोजित इस कार्यक्रम का दीप प्रज्वलन के साथ शुभारम्भ किया एवं स्व0 विधायक श्री जन्मेजय सिंह के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किया।

उन्होने कहा कि भारी अतिवृष्टि से देवरिया एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश में जन जीवन अस्त-व्यस्त रहा है, जिसके कारण कल जनपद के विकास के लिये परियोजनाओं का लोकार्पण/ शिलान्यास आनलाईन करना पडा। देवरिया के साथ आत्मीय लगाव है। यहां की समस्याओं को जानता हूॅ तथा समाधान के लिये तत्पर हूॅ। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में कोरोना वायरस बीमारी से सभी देश जुझ रहे है। किसी भी बीमारी में लापरवाही सबसे खराब होती है। हम सभी को लापरवाही नही करनी है, जब तक कि वैक्सिन नही आती है। बचाव ही इसका निदान है। मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा ‘‘दो गज की दूरी सबके लिये जरुरी’’ कही हुई बात को सभी को अपनाना होगा। उन्होने कहा कि कोरोना वायरस के बचाव के साथ ही इस महामारी के गाइडलाइन का पालन करने के साथ ही साथ विकास कार्यो को भी जनता तक पहुॅचाने का कार्य किया जाना होगा।

उन्होने कहा कि अतिवृष्टि एवं आपदाओं में संसाधन कम पड जाते है। उन्होने कहा कि कोरोना वायरस से प्रभावित ऐसे संवेदनशील गांव में शुद्ध पेयजल की उपलब्धता अनिवार्य रुप से सुनिश्चित कराये जाने का कार्य किया जाये। उन्होने यह भी कहा कि व्यवहार में स्वच्छता को आदत का हिस्सा बनाये, उन्होने कहा कि मासूमों की जान को बचाना, यानि देश के भविष्य को बचाना है। देश का भविष्य स्वस्थ व सुरक्षित रहेगा तभी देश समृद्ध व आगे रहेगा। उन्होने कहा कि जनपद में स्वच्छता व जल निकासी की व्यवस्था बनायी जा रही है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोई विश्वास नही किया होगा कि देवरिया में भी मेडिकल कालेज बनेगा। इस मेडिकल कालेज का नाम देवरहवा बाबा के नाम से रखा गया, वे युगदृष्टा थे। इस मेडिकल कालेज का युद्ध स्तर पर निर्माण कार्य चल रहा है।

अगले सत्र में एम0बी0बी0एस0 की पढाई शुरु कर दी जायेगी। अब यहां के नौजवानो को देश-विदेश में पढने के लिये नही जाना पडेगा, बल्कि देवरिया में ही उन्हे पढाई की सुविधा मिलेगी एवं लोगो के उच्च स्तरीय इलाज की सुविधा देवरिया में ही मिलेगी। उन्होने यह भी कहा कि देवरिया जिले व कस्बे के अन्दर मेडिकल कालेज का होना एक बहुत बडी उपलब्धि है। उसके अनुरुप अच्छी सुविधायें यथा अच्छी सडके, पार्क, जल निकासी, पेयजल की सुविधा उपलब्ध कराया जाना भी प्राथमिकताओ में है। आजादी के लडाई में देवरिया के योगदान का स्मरण करते हुए कहा कि 1942 के भारत छोडो आन्दोलन में अपना बलिदान देने वाले शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी के नाम से संग्रहालय बनेगा तथा शहीद सोना सोनार के नाम से गंडक नदी के सेतु का नामकरण किया जायेगा। उन्होने शहीदों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित किया।

उन्होने यह भी कहा कि स्व0जन्मेजय सिंह के नाम पर पार्क का नामकरण होगा ताकि उनके स्मृतियों को उसे जोडा जा सके। मुख्यमंत्री ने सम्बोधन में कहा कि बाढ प्रभावित क्षेत्रो का भ्रमण करने का निर्देश कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही को दिया गया था, जिसके क्रम में उनके द्वारा रुद्रपुर एवं बरहज तहसील अन्तर्गत बाढ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया गया। समस्याओं को जाना गया तथा राहत किट का भी वितरण किया गया। उन्होने यह भी कहा कि जनहानि व किसी प्रकार के नुकसान के लिये राहत कार्य को 24 घंटे के अन्दर पुहॅचाये जाने का निर्देश दिया गया है तथा किसानो के फसलो के नुकसान के लिये मुआवजा के भुगतान भी शीघ्रता से किये जाने हेतु निर्देशित किया गया है। पर्वो के पहले सडको को गडढामुक्त किये जाने के भी निर्देश दिये गये है। सडको के चैड़ीकरण का कार्य किया जा रहा है। सामान्य जन की जीवन में खुशहाली लाने का कार्य सरकार करेगी। श्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लाकडाउन में जनता की जान बचाने एवं प्रवासी श्रमिकों, कामकारों को सुविधाजनक तरीके से घर पहुॅचाने का कार्य किया गया।

प्रदेश में आये 40 लाख प्रवासी श्रमिकों को भोजन, राशन देने का कार्य किया गया। स्थानीय स्तर पर भी रोजगार देने की कार्यवाही की गयी है, जो बैंको से लोन लेकर स्वरोजगार स्थापित करना चाहते है, उन्हे बैंक ऋण भी उपलब्ध कराये जाने का कार्य किया जा रहा है। गरीब कल्याण योजना के तहत भी उन्हे लाभान्वित किया जा रहा है। सभी प्रकार की पेशनों की माह सितम्बर तक की धनराशि एडवान्स में ही उनके खातो में भेज दिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानो के साथ छल करने की छूट किसी को भी नही दिया जा सकता है। कृषक हित में कृषि बिल पारित कर ‘‘वन नेशन-वन मार्केट’’ की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारन्टी होगी तथा इसकी धनराशि किसानो के खातो में सीधे भेजी जा रही है। अब कृषक मंडी के बाहर भी उपज को उचित दाम पर बेच सकते है। उस पर किसी प्रकार का शूल्क नही लगेगा।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here