जांच में कमी पाए जाने पर अधिशासी अभियंता एवं अवर अभियंता के विरुद्ध कठोर कार्यवाही के निर्देश


देवरिया टाइम्स। मुख्य विकास अधिकारी रवींद्र कुमार ने बताया है कि उ०प्र० राज्य निर्माण सहकारी संघ लि०, गोरखपुर द्वारा राजकीय आई०टी०आई०, दिघवा पौटवा, विकास खण्ड-देसही देवरिया, जनपद-देवरिया का निर्माण कार्य कराया जा रहा है।

उक्त निर्माण कार्य की जाँच 4 सदस्यी टीम जिला कृषि अधिकारी, जिला युवा कल्याण एवं प्रादेशिक विकासल दल अधिकारी, सहायक अभियन्ता, लघु सिंचाई, सहायक अभियन्ता, नि०ख०, लो०नि०वि०, देवरिया से कराया गया जिसमें कमियाँ पायी गयी। Workshop Building का Plinth Beam एवं Footing का Shuttering बहुत ही निम्न गुणवत्ता एवं बीम का लेबल एवं Allignment दोनों ही प्रथम दृष्ट्या सही नहीं पाया गया। मुख्य भवन के पीछे जो रैम्प बना है उसका ढाल (Gradiant) एक समान न होकर प्रत्येक कालमो के बीच में अलग-अलग है। अन्दर वाले कालम की साईज बाद में तोड़कर कालम की चौड़ाई को बढ़ाया जा रहा है जिससे यह प्रतीत होता है कि तकनीकी पर्यवेक्षण ठीक ढंग से नहीं किया गया है।

मौके पर स्टोन डस्ट का ढेर लगा हुआ था जिसका भवन कार्य में कही प्रयोग नहीं होना है। प्रथम दृष्ट्या कार्य की गुणवत्ता संतोषजनक नहीं पायी गयी। कंकरीट कार्य के लिये मानक हेतु मेजरिंग बाक्स उपलब्ध नहीं पाया गया। संबंधित कार्य के अवर अभियन्ता द्वारा दूरभाष पर बताया गया कि अब तक गुणवत्ता जाँच की कोई रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है, जबकि जाँच हेतु सामग्री प्रेषित है।


उपरोक्त कमियों के लिए उत्तरदायी कार्यदायी संस्था उ०प्र० राज्य निर्माण सहकारी संघ लि०, गोरखपुर के अधिशासी अभियन्ता, एवं हर्षित पाण्डेय, अवर अभियन्ता के विरूद्ध कठोर कार्यवाही किये जाने के लिए प्रबन्ध निदेशक, उ०प्र० राज्य निर्माण सहकारी संघ लि0, लखनऊ को पत्र प्रेषित किया गया है।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर