किसानों की समस्याओं को लेकर डीएम से मिला किसानों का प्रतिनिधिमंडल



देवरिया टाइम्स। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय श्री योगी आदित्यनाथ जी जो खुद खाद्यान्न विभाग के खाद्य एवं रसद मंत्रालय भी अपने पास रखे हैं। उनके वरिष्ठ अधिकारी प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद श्रीमती मीना कुमारी मीणा किसानों को बर्बाद करने के लिए ऐसा नियम लगाई हैं जिससे पूरे उत्तर प्रदेश के धान पैदा करने वाले किसान परेशान हैं । पूरी दुनिया जानती है एक हेक्टेयर खेत में 75 कट्ठा होता है और एक हेक्टेयर रकबे में करीब मोटा लाल मंसूरी धान 60 कुंतल के करीब होता है मगर जब किसान धान बेचने हेतु ऑनलाइन करा रहे हैं तो उसमें एक हेक्टेयर में मात्र 36 कुंटल ही बेचने हेतु मात्रा आ रही है । इस तरह किसान अपने ही धान को अपने नाम से नहीं बेच सकता । समझ मे नहीं आ रहा कि मुख्यमंत्री जी सरकार चला रहे हैं या इस प्रदेश के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी सरकार चला रहे हैं।

कम से कम तमाम ऐसे अनुभवी विधायक हैं । सरकार में तमाम ऐसे वरिष्ठ मंत्री हैं खुद देवरिया जनपद के वरिष्ठ नेता कृषि मंत्री माननीय श्री सूर्य प्रताप शाही जी हैं जो खुद जानते हैं कि एक हेक्टेयर खेत में 60 से 65 कुंटल मोटा लाल मंसूरी धान पैदा हो रहा है उसके बावजूद भी सरकार इस बात पर ध्यान नहीं दे रही है । मेरा खुद 3.126 हेक्टेयर में मात्र 115 कुन्तल ऑनलाइन हुआ है। सरकार ने भी किसान मोर्चा बनाया है मगर वह केवल दिखाने के लिए है इस पर उनको आपत्ति करनी चाहिए।
भारतीय किसान यूनियन सरकार के इस निर्णय का विरोध करती है एवं देवरिया के जिलाधिकारी श्री जितेन्द्र प्रताप सिंह को कल शाम को एक पत्रक देकर यह मांग की है कि शासन स्तर से जल्द से जल्द एक हेक्टेयर रकबे पर कम से कम 60 कुंटल धान खरीद करने हेतु आदेश निर्गत किए जाएं।

प्रतिनिधि मंडल में किसान नेता विनय सिंह सैंथवार , भाकियू नेता विनोद गुप्ता ,जिला अध्यक्ष श्री राघवेंद्र प्रताप शाही , जिला संयोजक शहीद ख्वाजा मंसूरी, जिला महासचिव सदानंद यादव, जिला उपाध्यक्ष श्यामदेव राय ,जिला सलाहकार मदन चौहान,जिला सचिव धनन्जय सिंह, जिला मंत्री सुनील राय, सत्याग्रह सरोज , इत्यादि शामिल रहे।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर