जिलाधिकारी ने ‘‘पी०एम० किसान समाधान दिवस’’ के आयोजन हेतु लगायी संबंधित अधिकारियों की ड्यूटी

विज्ञापन

01 फरवरी 2021 से 03 फरवरी 2021 तक संबंधित विकास खंड के बीज गोदाम पर आयोजित होगा कैम्प

देवरिया(सू0वि0)30 जनवरी। जिलाधिकारी अमित किशोर ने बताया है कि जनपद में 01 फरवरी 2021 से 03 फरवरी 2021 तक ‘‘पी०एम० किसान समाधान दिवस’’ के आयोजन का निर्णय लिया गया है। इस दिवस में कृषकों की पी०एम० किसान से सम्बन्धित समस्याओं का समाधान किया जायेगा। उन्होने बताया है कि जिन किसानों का आधार नम्बर गलत होने के कारण अथवा आधार के अनुसार नाम सही नहीं होने के कारण प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ नहीं मिल पा रहा है, वे किसान 01 फरवरी 2021 से 03 फरवरी 2021 तक कार्यालय अवधि में (सुबह 10 बजे से सांय 05 बजे तक) अपने विकास खण्ड मुख्यालय पर स्थित राजकीय बीज गोदाम पर अपने आधार कार्ड/बैंक खाते के विवरण के साथ पहुॅचकर अपना डाटा ठीक करा सकते हैं।

जिन किसानों को योजना की कम से कम एक किस्त प्राप्त हो चुकी है, किन्तु उनका आधार संख्या या नाम त्रुटिपूर्ण होने के कारण आगामी किस्त नहीं प्राप्त नहीं हो पा रही हैं, ऐसे किसानों का बैंक अभिलेख में अंकित पता, संबधित बैंक के शिविर में उपस्थित बैंक कर्मी से प्राप्त करते हुये शिविर प्रभारी (बीज गोदाम प्रभारी) ऐसे कृषकों का डाटा मौके पर ही दुरुस्त करायेंगे । pmkisan.gov.in पर जनपदीय उप कृषि निदेशक के लागिन के अन्दर इनवैलिड आधार करेक्शन और आधार के अनुसार नाम संशोधन की प्रगति प्रदर्शित होती है,उस पर प्रदशित हो रही सूचना के अनुसार उप कृषि निदेशक प्रतिदिन अनुश्रवण करते हुये संशोधन हेतु की जा रही कार्यवाही पर निरन्तर नजर रखेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि सभी लम्बित प्रकरणों का समाधान निर्धारित किये गये तीन दिनों के अन्दर कर लिया जाये। यह समाधान मुख्य रुप से इनवैलिड आधार करेक्शन और आधार के अनुसार नाम सही कराने के लिये आयोजित किया जा रहा है तदापि इसके अतिरिक्त अन्य समस्याओं को लेकर किसान यदि विकास खण्ड पर पहुंचता है तो, उसका भी यथोचित उत्तर/ निराकरण समाधान दिवस में ही कर दिया जाये।


जिलाधिकारी ने बताया है कि विकास खण्ड स्तर पर समाधान दिवस का संचालन, कृषि विभाग के बीज गोदाम प्रभारी द्वारा किया जायेगा, जिसकी सहायता के लिये उस विकास खण्ड में उपस्थित कृषि रक्षा पर्यवेक्षक (पी०पी०एस०) की डयूटी भी लगायी जाती है। इन दोनों कार्मिकों के कार्यों का अनुश्रवण सम्बन्धित नोडल अधिकारी द्वारा किया जायेगा समाधान शिविर के कार्यों का पर्यवेक्षण करने के लिये जनपद के श्रेणी -2 के अधिकारियों की विकासखण्डवार डयूटी लगायी गयी है। विकास खंड सदर, रामपुर कारखाना, पथरदेवा एवं तरकुलवां के संबंधित बीज गोदाम पर आयोजित शिविर के पर्यवेक्षण अधिकारी हेतु भूमि संरक्षण अधिकारी को नामित किया गया है। इसी प्रकार विकास खंड देसही देवरिया एवं बैतालपुर में आयोजित कैम्प में पर्यवेक्षण अधिकारी हेतु जिला उद्यान अधिकारी को नामित किया गया है। गौरी बाजार, भलुअनी, रुद्रपुर तथा बरहज हेतु जिला कृषि रक्षा अधिकारी को पर्यवेक्षण अधिकारी, सलेमपुर, भागलपुर, लार एवं भटनी हेतु पर्यवेक्षण अधिकारी जिला कृषि अधिकारी को तथा भाटपाररानी एवं बनकटा के संबंधित बीज गोदाम पर आयोजित शिविर के पर्यवेक्षण अधिकारी हेतु जिला गन्ना अधिकारी को नामित किया गया। नोडल अधिकारी हेतु संबंधित विकास खंड के सहायक विकास अधिकारी(कृषि) को नामित किया गया है।
श्री किशोर ने बताया है कि कृषि विभाग द्वारा पी०एम० किसान समाधान दिवस का व्यापक स्तर पर, कृषकों के बीच प्रचार-प्रसार किया जायेगा। इसके लिये ग्राम पंचायतों में मुनादी के द्वारा लोगों को पी0एम0 किसान के कैम्प के आयोजन स्थल, आयोजन तिथि एवं समय आदि की जानकारी दी जायेगी इस कार्य को सभी प्राविधिक सहायक ए0टी0एम0/वी0टी0एम0 द्वारा कराया जायेगा। कैम्प स्थल पर कम्प्यूटर ऑपरेटर की व्यवस्था उप कृषि निदेशक/जिला कृषि अधिकारी द्वारा करा दी गयी गयी है,तदापि शिविर की आवश्यकता के अनुरुप अन्य कार्मिकों की सहायता उपलब्ध कराने के लिये तत्पर रहेंगे। शिविर में सभी प्राविधिक सहायक ,बी0टी0एम0, ए0टी0एम0 उपस्थित रहेंगे तथा अपनी न्याय पंचायत के ऐसे कृषकों (जिनको इनवैलिड आधार व नेम मिसमैच की समस्या है) से आवेदन प्राप्त करते हुये अपने मोबाइल पर कृषक को वर्तमान स्थिति /स्टेटस देख लेंगे व आवेदन पत्र स्टेटस की आख्या अंकित करते हुये, बीज गोदाम प्रभारी को उपलब्ध करायेंगे तत्पश्चात बीज गोदाम प्रभारी इन प्राप्त समस्याओं का अंकन रजिस्टर में भरते हुये, अपनी देखरेख में कम्प्यूटर ऑपरेटर के माध्यम से पोर्टल पर समस्या का निराकरण करने की कार्यवाही सम्पादित करायेंगे। ऐसे कृषक जो वास्तव में पात्र हैं परन्तु पोर्टल पर कतिपय कारण से अपात्र प्रदर्शित हो रहे हैं, ऐसे कृषकों से सम्बन्धित प्राविधिक सहायक,बी0टी०एम, ए0टी०एम० प्रार्थना पत्र प्राप्त करते हुये शिविर में उपस्थित राजस्व कर्मी/लेखपाल/तहसीलदार से कृषक की पात्रता घोषणा पत्र पर प्रमाणित कराते हुये, बीज गोदाम प्रभारी द्वारा कम्प्यूटर ऑपरेटर के माध्यम से पोर्टल पर अपलोड कराया जायेगा तथा इन समस्याओं/शिकायतों का अंकन भी निर्धारित रजिस्टर के प्रारूप में किया जायेगा। विरासत के फलस्वरुप ओपेन सोर्स में कराये गये पंजीकरण के सत्यापन हेतु कृषकों के आधार कार्ड की फोटो कॉपी बैंक खाता की फोटो कॉपी, एवं जमीन का विवरण व घोषणा पत्र आदि अभिलेख कृषकों से प्राप्त करते हुये,यह अभिलेख बीज गोदाम प्रभारी को उपलब्ध करायेगें। सभी प्राविधिक सहायक, बी0टी0एम0 ए0टी0एम0 भी शिविर में प्राप्त होने वाली अपनी न्याय पंचायत की सभी समस्याओं का अंकन, उपरोक्तानुसार एक पृथक पंजिका के अनुसार अलग रखेंगे। राजस्व विभाग द्वारा किये जाने वाले कार्य के संबंध में उपजिलाधिकारी का दायित्व होगा कि वे उस तहसील के अन्तर्गत आने वाले विकास खण्डों में आयोजित होने वाले समाधान दिवस में विकास खण्ड से सम्बन्धित सभी लेखपालों को शिविर में तीनों दिन उपस्थित रहना सुनिश्चित करेंगें तथा इस कार्य के समुचित पर्यवेक्षण हेतु अपने स्तर से तहसीलदार/नायब तहसीलदार की विकास खण्डवार ड्यूटी लगा दें, जो सुनिश्चित करें कि उस विकास खण्ड के सभी ग्रामों से सम्बन्धित लेखपाल शिविर में उपस्थित रहें। ऐसे कृषक जो पात्रता की शर्त को पूरा करते हैं परन्तु कतिपय कारणों से पोर्टल पर अपात्र है, से लेखपाल घोषणा पत्र प्राप्त कर प्रमाणित करते हुए सम्बन्धित प्राविधिक सहायक, बी0टी0एम0 ए0टी0एम0 को उपलब्ध करायेंगे । ओपेनसोर्स पंजीकरण हेतु कृषकों के जमीन के विवरण को सम्बन्धित लेखपाल के द्वारा सत्यापित किया जायेगा। लेखपाल का यह भी दायित्व है कि शिविर में ओपेन सोर्स पर पंजीकृत कृषकों के डाटा सम्बन्धित बीज गोदाम प्रभारी/सहायक विकास अधिकारी से प्राप्त कर तहसील के अभिलेखागार में सुरक्षित रखेगें।
जिलाधिकारी ने बैंक द्वारा किये जाने वाले कार्य के संबंध में बताया है कि जिला अग्रणी बैंक प्रबन्धक का दायित्व होगा कि वे जनपद के अन्तर्गत आने वाले सभी विकास खण्डों में आयोजित होने वाले सभी समाधान दिवस में विकास खण्ड से सम्बन्धित सभी बैंक शाखाओं के प्रतिनिधियों को शिविर में तीनों दिन उपस्थित रहना सुनिश्चित करायें। शिविर में उपस्थित बैंक कर्मी का दायित्व होगा कि इनवैलिड आधार से सम्बन्धित कृषकों का बैंक अभिलेखों में अंकित पता शिविर प्रभारी को सत्यापन हेतु उपलब्ध करा दें जिससे कि पोर्टल पर संशोधन की कार्यवाही की जा सके।उपस्थित बैंक कर्मी का यह भी दायित्व होगा कि ऐसे कृषक जिनका डाटा पी०एम०किसान पोर्टल पर स्टॉप बाई स्टेट प्रदर्शित हो रहा है, ऐसे कृषकों के आधार को एन०पी0सी0आई0 में सीड करने हेतु सम्बन्धित बैंक शाखा को अवगत कराते हुये संदर्भित कर देगें,एवं कृषक को यह भी अवगत करायेगें कि सम्बन्धित बैंक शाखा में जाकर सीडिग की कार्यवाही पूर्ण करा लें।
जिलाधिकारी ने समस्त पर्यवेक्षणीय अधिकारी को निर्देशित किया है कि वे अपने से सम्बन्धित आवंटित विकास खण्डों में सुबह 10 बजे से शाम 05 बजे तक उपस्थित रहकर अपनी देखरेख में पी०एम०किसान का डाटा अपडेट/संशोधित/सत्यापन करायेगें एवं प्रगति रिपोर्ट निर्धारित प्रारुप पर अपराहन 05 बजे तक उप कृषि निदेशक, देवरिया कार्यालय के योजना प्रभारी श्री वशं गोपाल सिंह (प्रा०स0सी0 ) के मोबाइल नम्बर पर अथवा विभागीय व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करेगें। विकास खण्ड के सहायक विकास अधिकारी (पचायत) अपने स्तर से सभी पूर्व ग्राम प्रधानों को दूरभाष से अवगत कराते हुये शिविर की जानकारी देगें कि वह अपनी ग्राम सभा के सभी ऐसे कृषकों को शिविर में लेकर आयें, जिनको पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ नहीं मिल पाया है। सहायक विकास अधिकारी (कृषि) शिविर में कृषकों के पेयजल तथा बैठने आदि की व्यवस्था को सुनिश्चित करायेंगे तथा समस्त ग्राम पचायत में सचिव/ पूर्व प्रधान के माध्यम से मुनादी एवं जनसम्पर्क मन्दिर/मस्जिद से उद्घोष कर पी०एम० किसान समाधान दिवस के स्थान/ समय / दिनांक से कृषकों को अवगत करायेगें। समस्त उपजिलाधिकारी समाधान दिवस की मॉनिटरिंग लगातार करते रहें एवं किसी भी समस्या का निस्तारण कर शतप्रतिशत डाटा संशोधन का कार्य पूर्ण करायें।
प्रचारित-प्रसारित द्वारा सूचना विभाग-देवरिया।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here