डीएम ने जनपद में अवैध मदिरा के निर्माण एवं बिक्री पर अंकुश लगाये जाने हेतु गठित संयुक्त टीम को विशेष प्रवर्तन चलाये जाने व आबकारी दुकानों के गहन निरीक्षण किये जाने का दिया निर्देश


देवरिया टाइम्स।जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने जनपद में दशहरा एवं दीपावली त्योहार के समय मदिरा की मांग में वृद्धि होने से मदिरा की तस्करी व अवैध / मिलावटी / नकली क्यूआर कोड ढक्कन एवं रैपर युक्त तैयार नकली मदिरा की बिक्री की आंशका के दृष्टिगत जनपद में अवैध मदिरा के निर्माण बिक्री तथा तस्करी पर अंकुश लगाये जाने के दृष्टिगत राजस्व प्रशासन, पुलिस एवं आबकारी की संयुक्त टीम गठित करते हुये जनपद में एक विशेष प्रवर्तन अभियान चलाकर मदिरा की तस्करी की रोकथाम हेतु संयुक्त रूप से प्रभावी प्रवर्तन कार्य किये जाने हेतु निर्देश दिया है। गठित टीम को आबकारी दुकानों के गहन निरीक्षण किये जाने हेतु निर्देशित किया है।


जिलाधिकारी ने तहसीलवार संबंधित उप जिलाधिकारी को प्रशासनिक अधिकारी एवं क्षेत्राधिकारी को पुलिस विभाग के अधिकारी इस टीम हेतु नामित किया है। उन्होने इस टीम में नामित आबकारी विभाग के अधिकारी के विवरण में बताया है कि तहसील सदर के लिए आबकारी निरीक्षक क्षेत्र-1 देवरिया अमरेन्द्र कुमार सिंह, सलेमपुर के लिए आबकारी निरीक्षक क्षेत्र-2 देवरिया मनीष कुमार सिंह, भाटपाररानी के लिए आबकारी निरीक्षक क्षेत्र-5 देवरिया श्याम नारायन, बरहज के लिए आबकारी निरीक्षक क्षेत्र-3 देवरिया पंकज विवेक तथा रुद्रपुर के लिए आबकारी निरीक्षक क्षेत्र-4 देवरिया कुलदीप सिंह को नामित किया गया है।
जिलाधिकारी ने संयुक्त टीमों को निर्देशित किया है कि तहसीलवार उपजिलाधिकारी के नेतृत्व में पूर्व चिन्हित अवैध मद्यनिष्कर्षण के अड्डों पर प्रभावी प्रवर्तन कार्यवाही सम्पादित करने के साथ-साथ सन्निकट स्थापित ईट-भट्ठों व ढाबा तथा किराना की दुकानों पर गहन चेकिंग कार्य भी सम्पादित करेंगे। उक्त के अतिरिक्त उल्लिखित टीमों द्वारा जनपद में निर्धारित बिन्दुओं के आधार पर प्रभावी प्रवर्तन कार्यवाही / चेकिंग कार्य सम्पादित किया जायेगा। संदिग्ध वाहनों की सघनता एवं सूक्ष्मता से चेकिंग करायी जाएगी। राष्ट्रीय / राज्य मार्गो पर स्थित ढाबो, जहाँ अल्कोहल के टैंकर प्रायः रुकते है, की भी सघन एवं आकस्मिक जाँच करायी जाय।अवैध मदिरा के संदिग्ध स्थानों/अड्डों पर छापेमारी की कार्यवाही अवश्य की जाये। पकड़े गये अभियोगों में आबकारी अधिनियम की विद्यमान धाराओं के साथ-साथ आवश्यकतानुसार आई०पी०सी० की सुसंगत धाराओं में भी एफ0आई0आर0 दर्ज की जाय। आबकारी दुकानों एवं चौक अनुज्ञापनों का निरीक्षण चेक लिस्ट के अनुसार किया जाये तथा दुकानों पर स्थित स्टॉक के बार कोड व क्यूआर कोड की सूक्ष्मता एवं सतर्कतापूर्वक जाँच की जाय। इसके साथ जनपदों में ऐसी दुकाने जो सेक्टर / क्षेत्र में सबसे दूरस्थ, जंगल क्षेत्र अथवा निर्जन स्थान पर स्थापित की गयी हो, उन दुकानों पर अवैध / मिलावटी शराब बिकने की सम्भावना अधिक होती है, इसकी रोकथाम के लिए ऐसी दुकानों पर सतर्क दृष्टि एवं निगरानी रखा जाना सुनिश्चित करें तथा रेण्डम आधार पर दुकानों की चेकिंग करते हुये मदिरा का नमूना लेकर क्षेत्रीय / केन्द्रीय प्रयोगशाला में परीक्षण हेतु भेजे जाय। दुकानों पर लगे हुये सी०सी०टी०बी० कैमरा के सुचारु रूप से निरन्तर क्रियाशील होने की स्थिति सुनिश्चित की जाय। अवैध मंदिरा के निर्माण एवं बिक्री के कई प्रकरण बन्द पड़ी फैक्ट्रियों में पकड़े गये है, ऐसी बन्द पड़ी फैक्ट्रियों को चिन्हित कर उन पर सतत् सतर्क दृष्टि रखी जाय। अन्य प्रान्तों की सीमा से लगे जनपदों में विशेष सतर्कता बरती जाय जिससे कि किसी भी दशा में अवैध मदिरा की तस्करी न होने पाए। जनपद के अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत स्थित आबकारी फुटकर एवं थोक विक्रय अनुज्ञापनों का आकस्मिक निरीक्षण करते हुये संरक्षित मदिरा के स्टॉक के बार कोड व क्यू० आर० कोड की सतर्कता पूर्वक सूक्ष्मता से जाँच की जायेगी।

जनपद के असेवित क्षेत्रों, जहाँ पर अवैध शराब के कारोबार की संभावना है, की सतत् निगरानी की जायेगी। मिथाइल अल्कोहल के संदर्भ में आयुक्तालय द्वारा पूर्व में निर्गत आदेशों का कड़ाई से पालन कराया जाय। जनपद स्थित आबकारी दुकानों से मदिरा की गोपनीय खरीदारी कराते हुये निर्धारित मूल्य पर मदिरा बिक्री सुनिश्चित की जाय।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर