जिलाधिकारी ने की नगर निकायों के कार्यों की समीक्षा,निर्माण कार्य में लापरवाही पर इओ लार से स्पष्टीकरण तलब


देवरिया टाइम्स।
जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने देर सायं कलेक्ट्रेट कार्यकक्ष में जनपद के सभी 11 नगर निकायों के कार्यों की मासिक समीक्षा की, जिसमें उन्होंने विकास कार्यों को शासन की मंशा के अनुरूप उच्च गुणवत्ता के साथ निर्धारित समय सीमा में पूर्ण करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि इसमें किसी प्रकार की कोताही न बरती जाए और जन-सुविधा से जुड़ी परियोजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाए।

जिलाधिकारी ने कहा कि नगर निकायों द्वारा बनाए गए सभी मार्गों पर उसे बनाने वाले ठेकेदार/फर्म का मोबइल नंबर सहित ब्यौरा देने वाला बोर्ड लगाया जाए। यदि कोई मार्ग 5 वर्ष के भीतर जर्जर हो जाये तो उसका अनुरक्षण संबंधित ठेकेदार को कराना होगा। बोर्ड लगने के बाद आमजन भी निर्माण करने के लिए जिम्मेदार ठेकेदार से संपर्क कर सकते हैं। साथ ही अनुरक्षण हेतु 5 वर्ष की निर्धारित समय सीमा में सड़क का रखरखाव न करने वाले डिफॉल्टर ठेकेदारों को चिन्हित कर ब्लैकलिस्ट करने का निर्देश दिया।

जिलाधिकारी ने 40 लाख रुपये की लागत से नगरीय झील, तालाब, पोखर संरक्षण योजना के तहत हनुमान मंदिर स्थित तलाब के सौंदर्यीकरण का कार्य पूर्ण न होने पर गहरी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने इस योजना का डीपीआर बनाने वाले लोगों की जवाबदेही तय कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि सरकारी धन का अपव्यय करने वालों की जवाबदेही तय कर कार्रवाई करना आवश्यक है।

नगर पंचायत लार के इओ को 19 जुलाई 2021 को विकास कार्य से जुड़ी परियोजना स्वीकृत करने के बाद भी कार्य शुरू न करने पर स्पष्टीकरण तलब किया है। 7 दिन के भीतर उन्हें जवाब देना होगा।

जिलाधिकारी ने डोर-टू-डोर कूड़ा उठान पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इस कार्य मे यूजर चार्ज तर्कसंगत आधार पर तय होना चाहिए। इओ नगर पालिका देवरिया रोहित सिंह ने बताया कि नगर पालिका अपने क्षेत्र के 34% घरों से कूड़ा उठाने को कवर कर रही है। लार नगर पंचायत 16 में से 12 में कूड़ा उठान कर रही है, जिस पर डीएम ने 7 दिन के भीतर शेष सभी चार वार्डों से डोर-टू-डोर कूड़ा उठान सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

जिलाधिकारी ने सभी नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रों में पड़ने वाले जलभराव के क्षेत्रों को चिंहित करने का कर उचित कार्यवाही करने को कहा। जिलाधिकारी ने जनपद के सभी नगर निकायों को फॉगिंग और साफ-सफाई की गतिविधियों को नियमित तौर पर क्रियान्वित करने को कहा। उन्होंने कहा कि स्वच्छता से कई तरह की बीमारियों को दूर रख सकते हैं।

जिलाधिकारी ने सभी नगर निकायों को अपने-अपने कार्यक्षेत्र में व्यावसायिक एवं आवासीय संपत्तियों का असेसमेंट नए सिरे से करने का निर्देश दिया और कहा कि कर-करेत्तर राजस्व वसूली तेज की जाए। उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन, कान्हा आश्रय स्थल, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, कम्पोस्ट खाद परियोजना सहित विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की।
समीक्षा बैठक में मुख्य विकास अधिकारी रवींद्र कुमार, मुख्य राजस्व अधिकारी अमृत लाल बिंद, अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) कुँवर पंकज, एसडीएम सौरभ सिंह सहित समस्त नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी मौजूद थे।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर