डीएम की अध्यक्षता में हुई जिला शिक्षण अनुश्रवण समिति की बैठक,गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने में किसी भी तरह की न बरतें कोताही


देवरिया टाइम्स। विकास भवन स्थित गांधी सभागार में आज जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में जिला शिक्षण अनुश्रवण समिति की बैठक आयोजित हुई। बैठक में निपुण भारत मिशन, ऑपरेशन कायाकल्प, मिड-डे-मील सहित विभिन्न योजनाओं की समीक्षा हुई। डीएम ने कहा कि शिक्षा शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता का विषय है। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने में किसी भी तरह की कोताही न बरती जाए, शासन की नीति एवं अपेक्षाओं के अनुरूप बच्चों को शिक्षा उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाए।

जिलाधिकारी ने समस्त खण्ड शिक्षा अधिकारियों को 30 सितंबर तक अपने-अपने विकास खंड में न्यूनतम 10-10 परिषदीय विद्यालय को ऑपरेशन कायाकल्प के सभी 19 पैरामीटर्स से आच्छादित करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि ऑपरेशन कायाकल्प विगत 3 वर्ष से चल रहा है, ऐसे में परिषदीय विद्यालयों का सभी मानकों से शत-प्रतिशत आच्छादित नहीं होना चिंता का विषय है। डीएम ने बीएसए सहित समस्त खण्ड शिक्षा अधिकारियों को विद्यालयों का नियमित भौतिक निरीक्षण करने का निर्देश दिया। ऐसा न करने वाले खंड शिक्षा अधिकारियों को कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी।

जिलाधिकारी ने कहा कि निपुण भारत मिशन का उद्देश्य बुनियादी साक्षरता और संख्या ज्ञान के सार्वभौमिकरण के लिए समुचित वातावरण का निर्माण करना है, जिससे 2026 तक कक्षा तीन तक के बच्चों को पठन, लेखन एवं संख्या ज्ञान का प्रारंभिक परिचय कराया जा सके। इसके अंतर्गत बुनियादी साक्षरता एवं संख्यात्मक ज्ञान के लिए जनपद स्तर पर कार्ययोजना का निर्माण करने और सघन मॉनिटरिंग करने की आवश्यकता है।

बैठक में सीडीओ रवींद्र कुमार, प्रभारी सीएमओ डॉ सुरेंद्र सिंह, जिला विकास अधिकारी रवि शंकर राय, बीएसए हरिश्चंद्रनाथ, डीआईओएस विनोद राय, जिला सूचना विज्ञान अधिकारी कृष्णानन्द यादव सहित के खण्ड विकास अधिकारी एवं बीईओ उपस्थित थे।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर