कथा के अंतिम दिन भक्ति गीतों पर झूम उठे भक्त


शहर के रामलीला मैदान में चल रहे श्रीराम कथा के अंतिम दिन गुरुवार को मानस मर्मज्ञ राजन महाराज ने श्रीराम के राजा बनने के प्रसंग का मार्मिक तरीक से वर्णन किया। इस दौरान भक्त झूम उठे। कथा को सुनने के लिए दूर-दूर से लोग पहुंचे थे।

कहा कि जब सुग्रीव ने समझा कि बाली ने उसके वध के लिए किसी को भेजा है, तब वह मंत्रियों से विचार के बाद हनुमान को यह पता लगाने के लिए भेजते हैं कि वह दोनों कौन हैं। हनुमान भगवान श्रीराम तथा सुग्रीव की मित्रता करवाता है, भगवान राम सुग्रीव को सीता हरण के बारे में बताते हैं तथा महाराज सुग्रीव भगवान श्रीराम को आश्वासन देते हैं कि वह माता सीता को खोज निकालेंगे। सुग्रीव के कहने पर भगवान राम बाली का वध करते हैं तथा सुग्रीव को राजा बनाते हैं।

सुग्रीव की आज्ञा से पूरी वानर सेना चारों दिशाओं में माता सीता की खोज में जाती है, जहां पर समुद्र के किनारे लंका जाते समय हनुमान को उनके बल का जामवंत द्वारा ज्ञान कराया जाता है। भगवान श्रीराम ने कुंभकरण एवं रावण को मारकर लंका पर विजय प्राप्त की। लंका विजय के बाद भगवान राम के अयोध्या पहुंचने पर दीवाली मनाई गई तथा धूमधाम से वशिष्ठ मुनि द्वारा राज्याभिषेक किया गया। कथा के दौरान अरुण बरनवाल, डा. सौरभ श्रीवास्तव, अमित सिंह बबलू, संजय मिश्रा, निखिल सोनी आदि मौजूद रहे। पूतना वध की कथा का कराया रसपान

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर