देवरिया :उत्तराखंड त्रासदी में लापता युवक को मृत घोषित करने की तैयारी

विज्ञापन
savitri
Caption Two
3 / 3
maneesh

देवरिया टाइम्स

उत्तराखंड त्रासदी में लापता भटनी क्षेत्र के पिपरा देवराज निवासी संतोष यादव का 25 दिन बाद भी पता नहीं चल सका है। स्वजन ने मृत्यु की आशंका जताते हुए मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के लिए अपनी सहमति दे दी है। जिला प्रशासन की तरफ से कागजी कार्रवाई पूरी करते हुए अपनी रिपोर्ट उत्तराखंड के चमोली जिला प्रशासन को भेज दिया गया है।

39 वर्षीय संतोष यादव उत्तराखंड के चमोली जिले में एनटीपीसी के पिपरकोठी स्थित पावर प्लांट में ओम मेटल व‌र्क्स की तरफ से कार्य कर रहे थे। सात फरवरी की सुबह ग्लेशियर फटने के बाद से लापता हैं। उनकी पहचान करने के लिए डीएनए टेस्ट का सहारा लिया गया है। लापता संतोष के पिता हरिवंश यादव, बहन रिकू देवी व पुत्र अरुण यादव के खून के नमूने जांच के लिए राजकीय विधि विज्ञान प्रयोगशाला देहरादून भेजा गया है। शव की पहचान व डीएनए टेस्ट रिपोर्ट के बारे में अभी स्वजन को जानकारी नहीं हो पाई है। वहीं लापता युवक के पिता व माता की तरफ से मृत्यु के संबंध में अपनी सहमति जताई गई है। एसडीएम सलेमपुर ओमप्रकाश बरनवाल ने इसकी रिपोर्ट डीएम को भेजी। जिसके बाद प्रभारी डीएम शिव शरणप्पा जीएन की तरफ से उत्तराखंड के चमोली जिला प्रशासन को रिपोर्ट भेजी गई है। प्रभारी डीएम ने मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने संबंधी कार्रवाई करने को कहा है।

24 लाख रुपये की मिलेगी आर्थिक सहायता

एनटीपीसी की तरफ से लापता संतोष यादव के उत्तराधिकारी को 20 लाख रुपये दिए जाएंगे। एनटीपीसी तपोवन के हेड आफ प्रोजक्ट आरपी अहिरवार ने डीएम देवरिया से उत्तराधिकारी के बारे में ब्योरा मांगा है। उन्होंने कहा है कि एनटीपीसी की तरफ से मृत संविदाकर्मियों को 20 लाख रुपये देने की घोषणा की गई है। इसके अलावा उत्तराखंड सरकार की तरफ से चार लाख रुपये की सहायता राशि भी दी जाएगी।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here