आंगनबाड़ी केन्द्रो को गोद लेने के लिये कालेज करे पहल, बच्चो को आवश्यक समानो को कराये उपलब्ध-राज्यपाल

विज्ञापन

राज्यपाल उत्तर प्रदेश श्रीमती आनन्दीबेन पटेल जनपद देवरिया के निर्धारित कार्यक्रम के तहत पुलिस लाइन में कृषि एवं विकास पर आधारित प्रर्दशनी का अवलोकन की, इसके पूर्व उन्होने लगाये गये स्टाल/प्रदर्शनी का शुभारम्भ बंधे फीता गाठ को खोलकर की। पुलिस लाइन स्थित नवनिर्मित प्रेक्षागृह का लोकार्पण शिलालेख अनावरण कर उनके द्वारा किया गया। पुलिस लाइन के प्रेक्षा गृह में आयोजित विभागीय एवं स्टेक होल्डर बैठक के दौरान उन्होने राष्ट्रीय आजीविका मिशन, प्रगतिशील कृषकों, प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं ग्रामीण के लाभार्थियों से संवाद की, उनसे फीडबैक ली तथा अपने कार्यक्षेत्रों में और बेहतर किये जाने की अपेक्षायें की। आकांक्षा समिति, कृषि, एनआरएलएम, प्रधानमंत्री आवास शहरी एवं ग्रामीण एवं क्षय रोग से जुडे आदि विभागो के अधिकारियों द्वारा अपने कार्यो का प्रस्तुतिकरण भी किया गया। स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को 3 करोड 56 लाख 25 हजार का प्रतीक चेक भी राज्यपाल द्वारा दिया गया।


सर्वप्रथम ज्वाइन्ट मजिस्ट्रेट/उपायुक्त आजीविका मिशन सुमित कुमार द्वारा राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत किये गये कार्यो का प्रस्तुतिकरण के दौरान बताया गया कि 9292 समूह अब तक गठित है तथा इससे एक लाख से अधिक परिवारों को जोडा गया है। मशरुम की खेती में मध्यान्ह् भोजन में शामिल किया गया है। प्रथम चरण में 100 स्कूल इससे आच्छादित किये गये है, द्वितीय चरण में 8 ब्लाको के स्कूलों को इससे जोडा जायेगा। राज्यपाल ने स्वयं सहायता समूह की महिला पूजा शाही, कीर्ति रानी मिश्रा, किरण गौड, राधा कुशवाहा से उनके कार्य प्रगतियों, सफलता की कहानी एवं योजनाओं के संबंध में फीडबैक भी लीं।


महामहिम राज्यपाल श्रीमती बेन ने कहा कि पहले महिलाओं को अवसर नही मिलता था। स्वयं सहायता समूह बनने से पूरे देश की महिलाये जागरुक हुई। उनमें टेलेन्ट दिखा। अलग-अलग क्षेत्रों में अच्छे कार्य करने लगी। महिलाये जो भी कार्य करती है, मन से और समय से करती है। इसलिये महिलाये सफल हुई है। महिलाओं को सशक्त और बेटी को पढाना चाहिये। अब यह परिवर्तन आया है। उन्होने कहा कि राज्य सरकार व केन्द्र सरकार द्वारा संचालित योजनाओं को अपना कर महिलायें अब इस योजना के तहत कार्य कर रही हैं और योजनाओं से जुडी हुईं हैं। उन्होने कहा कि संचालित योजनाओं का प्रचार-प्रसार भी यदि महिलाओं के माध्यम से हो, तो काफी जन जागरुकता आयेगी। इसके लिये उन्होने स्वयं सहायता समूह की महिलाओं की योजनाओं की आपस में चर्चा करने तथा लोगो को उसे बताये जाने पर बल दी। उन्होने कहा कि कन्या सुमंगला योजना राज्य सरकार की अच्छी योजना है, इससे महिला साक्षरता बढेगी। इसे स्वयं सहायता समूहो के माध्यम से आगे बढाना चाहिये। आयुष्मान भारत योजना में भी स्वयं सहायता समूहो की महिलाओं की भागीदारी, यदि ली जाये तो काफी इसमें बढिया परिणाम आयेगा। उन्होने कहा कि कैम्प लगाकर संचालित योजनाओं का लाभ मिले महिलाओं को जागरुक करें, इसके लिये वे कार्य करें। कुपोषित बच्चे का जन्म न हो, इसके लिये भी वे लोगो में जागरुकता लाये। राज्य व केन्द्र सरकार द्वारा इसके लिये 5 हजार रुपये गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार देने के लिये उपलब्ध कराया जाता है, जिसके लिये वे महिलाओं को बतायें और उसका उपयोग करायें।


महामहिम राज्यपाल ने इसी क्रम में कहीं कि दहेज का मांग करना शिक्षा का मतलब नही हो सकता। महिलायें बीडा उठाये कि दहेज की मांग नही करेगीं। यदि आप ऐसा करेगी तो समाज में आपकी इज्जत बढेगी। आप सब में ताकतें और यह कौशल भी है। सही समय पर सही निर्णय करने की कुशलता आप सभी में है। बाल विवाह सहित अन्य कुरीतियों को रोकने में भी आप सभी बढ-चढ कर अपनी भागीदारी निभायें।
इसके उपरान्त क्षय रोग के अब तक के कार्या की प्रस्तुति के उपरान्त राज्यपाल महोदया ने कहा कि देश को 2025 तक क्षय रोग मुक्त किये जाने हेतु सभी लोग जागरुक हों। ऐसे रोगियो को गोद ले और उनका समुचित इलाज कराये। उन्होने कहा कि अधिकारी सहित सभी प्रबुद्व जन इस कार्य में अपनी भागीदारी निभाये और क्षय रोग से ग्रसित बच्चों/व्यक्तियों को गोद ले पुराने जो भी चिन्हित है उन्हे एक माह के अन्दर अनिवार्य रुप से गोद लेकर के उनका इलाज सुनिश्चित कर, उन्हे पूर्ण रुप से स्वस्थ रखें, साथ ही नये रोगियों को खोजे और उनका भी इलाज करें। जिला क्षय रोग अधिकारी डा0बी झा के द्वारा प्रस्तुतिकरण के दौरान बताया गया कि 11230500 रुपये का भुगतान क्षय रोगियों को 500 रुपये प्रति माह की दर से किया जा चुका है। जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, सीडीओ सहित अन्य अधिकारियों द्वारा क्षय रोगी गोद लिये गये थे, जो पूरी तरह से स्वस्थ हो गये है।
राज्यपाल द्वारा कहा गया कि सोच बदलनी चाहिये। बच्चो व रोगियों को पौष्टिक आहार में हम क्या खिलाते है यह देखना चाहिये। पौष्टिक आहार के तहत मूंगफली, चना और फल दें। सबसे ज्यादा ऐसे रोगियों को प्रेम की आवश्यकता होती है। अगर चिकित्सक ऐसे रोगियों के घर जायेगे तो घर वाले भी इनका ध्यान रख ने के लिये प्रेरित होगें। उन्होने कहा कि स्वयं मजबूत बने और बच्चो को भी मजबूत बनाये। बताया गया कि पुराने सहित लगभग 240 क्षय रोगी अभी है, जिन्हे उन्होने एक माह के अन्दर गोद लेने तथा दूरभाष पर सूचित करने को कहीं। इस अवसर पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, सीडीओ, सीएमओ, अपर जिलाधिकारी प्रशासन, एडीशनल एसपी सहित अन्य अधिकारियों द्वारा लिये गये क्षय रोगियों को गोद लिये जाने का प्रमाण पत्र राज्यपाल महोदया द्वारा प्रदान किया गया। साथ ही आये 28 रोगियों को कंबल व दवा किट आदि भी दिया गया।


राज्यपाल महोदया कृषि उत्पादन संगठन एवं प्रगतिशील कृषकों से भी रुबरु हुई और उसके उपरान्त उन्होने कहा कि भारत का किसान सोच रहा है कि कम लागत, पानी का बचाव और रसायनिक खादो का उपयोग बन्द कर किस तरह कम लागत में अपनी उत्पादकता आय को बढा सके, उसके लिये वह कार्य कर रहा है। अपनी तरह से उसका कीमत तय कर बाजार में उसे बेच सके इस दिशा में भी वे काम कर रहे है। यंत्र का उपयोग कर एवं नवाचारों का प्रयोग कर किसान को समृद्धि बनाना एवं 2022 तक उनकी आय को दोगुनी करना है, तो ड्रिप स्प्रिगंलर द्वारा पानी का बचत, सोलर पम्प द्वारा बिजली की कमी व जैविक व आर्गेनिक खादो का प्रयोग कर कृषि में कम लागत किया जा सकता है। किसानो से कान्टेªक्ट खेती की बाते सुनकर उन्होने कहा कि नावार्ड भी इसमें कार्य कर सकता है। कृषि व पशुपालन एक दूसरे के पूरक है। उत्तर प्रदेश में 2 बडे प्रोजेक्ट एक वाराणसी में 10 हजार गायो का गौशाला बनाये जाने का कार्य चल रहा है और लखनऊ में भी 10 से 12 हजार के गायो की क्षमता की गौशाला बनाये जाने का एमओयू साइन हुआ है। इन गौशालाओं के गोबर आदि से कम्पोष्ट खाद मिलेगी, जिससे किसानो को काफी सुविधा होगी। उन्होने कहा कि कृषक समृद्ध बनेगें तो पूरा देश समृद्धशाली होगा।
इस दौरान प्रगतिशील कृषक सत्य प्रकाश, वेद प्रकाश सिंह ने अपनी सफलताओं को सुनाया। कृषि विभाग के एफपीओ गठन एवं कृषि प्रगतियों के संबंध में उप निदेशक कृषि प्रसार डा एके मिश्र ने प्रस्तुतिकरण किया।


राज्यपाल ने श्रीमती पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास शहरी एवं ग्रामीण योजना के तहत केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा गरीबो को छत उपलब्ध कराने के लिये यह योजना चलाई गयी है, जिसके द्वारा गरीबो को छत मिला और उनका सपना पूरा हुआ। इसके साथ ही उन्हे उज्जवला योजना के तहत गैस सिलेन्डर मिला और इस वर्ष भी एक करोड महिलाओ को उपलब्ध कराये जाने का बजट में प्राविधान किया गया है। उन्होने कहा कि ऐसेे आवासो ंके छतों पर सब्जी उगाये इससे पोष्टिक आहार भी मिलेगा इसके लिये प्रशिक्षण देने की जरुरत है। उन्होने गरीबो को छत उपलब्ध कराये जाने की इस योजना के लिये केन्द्र व राज्य सरकार को धन्यवाद दिया।
सामाजिक सेवाओं के लिये गठित आकांक्षा समिति की अब तक किये गये कार्यो की प्रस्तुतिकरण इस समिति की अध्यक्ष प्रतिमा किशोर एवं उपाध्यक्ष डा0तनुषा द्वारा किया गया। उनके द्वारा बताया कि छठ पूजा के तहत महिलाओं में आयरन की गोली, पोष्टिक आहार, फल आदि इस समिति द्वारा उपलब्ध कराया गया। बाल सदन सहित स्कूलों में बच्चो की हेल्थ चेकिंग सहित सामाजिक उत्थान से जुडे अनेकानेक कार्य इस समिति द्वारा संचालित किया गया है।
राज्यपाल श्रीमती पटेल द्वारा कहा गया कि आकांक्षा समिति द्वारा देवरिया में सराहनीय कार्य किया गया है, उसका लाभ मिलने लगा है यह अच्छी बात है और यह करने की आवश्यकता है। शिक्षित व प्रबुद्धजन जब गांवो व दूर-दराज में जायेगें तो घरो में बैठी महिलाये भी जागरुक होगी और समाज में जो खाई है वह दूर होगी। उन्होने कहा कि जब कोई महिला गांव में बात बताती है, तो उसे लोग ध्यान से सुनते है और उन्हे लगता है कि कही हुई बात सही है तो उसे परिवार भी अमल में लाते है। उन्होने कहा कि आंगनवाडी बहुत ही महत्वपूर्ण कडी है आगनवाडी केन्द्रो को गोद लेने के लिये भी लोगो को आगे आना चाहिये इसके लिये कालेजो को अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभानी चाहिये। वे आंगनवाडी केन्द्रों को गोद ले और बच्चो के लिये जो आवश्यकता है उसे उपलब्ध करायेे। उन्होने 40 वर्ष से उपर महिलाओं पर भी ध्यान देने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि इसके लिये कैम्प लगाये जाये, महिला चिकित्सक आदि भी उनका अनुश्रवण करें और ऐसे महिलाओं की कठिनाइयां हो, उसे अस्पतालो में लाकर दूर भी करायें।

समूह की महिलाओं को दिया गया प्रमाणपत्र


राज्यपाल द्वारा समूह की महिलाओं को 3 करोड 56 लाख 25 हजार का प्रतीक चेक राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत उन्हे स्वालम्बन के लिये दिया गया जिसे अनामिका सिंह, रीना देवी, अर्चना सिंह आदि ने प्राप्त किया। विधुत बिल के संग्रह हेतु समूह की महिला राधा कुशवाहा व रिन्कु देवी को थर्मल प्रिन्टर, प्रतिभा देवी व शीला देवी, रतन देवी, वर्फी देवी सहित स्वयं सहायता समूह की 5 महिलाओं को सामूदायिक शौचालय की चाबी दी गयी।

प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं ग्रामीण को मिला आवास की प्रतीक चाबी
प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत कमलावती, ब्रह्मा, मरियम, सत्यनारायण, निवासी ग्राम खुखुन्दू एवं लीलावती सदर विकास खंड को इस योजना के निर्मित आवास की चाबी इस अवसर पर दिया गया। शहरी आवास योजना के तहत पारवती देवी, सुमित्रा देवी, बुद्धिया देवी, इन्द्रावती देवी एवं संगिता देवी आवास की चाबी पाने में सम्मिलित रही। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं ग्रामीण के 5-5 लाभार्थियों को आवास की चाबी उनके द्वारा दी गयी।
प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण की प्रस्तुतिकरण परियोजना निदेशक संजय पाण्डेय एवं शहरी का प्रस्तुतिकरण परियोजना अधिकारी डूडा विनोद कुमार मिश्र द्वारा किया गया।
महामहिम राज्यपाल को प्रदेश के पशुपालन राज्य मंत्री जय प्रकाश निषाद एवं जिलाधिकारी अमित किशोर, पुलिस अधीक्षक डा0श्रीपति मिश्र ने स्मृति चिन्ह भेट किया। प्रगतिशील कृषक वेद व्यास सिंह, संजय तिवारी, मनोज पाण्डेय आदि ने भी पौधे भेट किये।

कृषि एवं विकास विभाग के लगाये गये थे स्टाल


पुलिस लाइन में इस अवसर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, राष्ट्रीय आजीविका मिशन, नगरीय विकास अधिकरण डूडा, कृषि विभाग, मत्स्य, कृषि रक्षा, सामाजिक वानिकी, फसल अवशेष प्रबंधन, उद्यान, एक जनपद एक उत्पाद, राष्ट्रीय लघु उद्योग, राष्ट्रीय सूक्ष्य, लघु एवं मध्यम उद्योग, वन स्टाप सेन्टर, विज्ञान एवं प्रौधोगिकी, पंचायतीराज आदि विभागो की प्रदर्शनी/स्टाले लगायी गयी थी। सभी स्टालो का निरीक्षण महामहिम राज्यपाल द्वारा किया गया। एक एक कार्य प्रदर्शनियों की जानकारी स्टाल में उपस्थित अधिकारियों से उनके द्वारा लिया गया।
अन्त में जिलाधिकारी अमित किशोर ने मा0राज्यपाल महोदया एवं वित्त एवं चिकित्सा राज्य मंत्री संदीप सिंह के प्रति आभार व्यक्त करते हुए आये सभी सुझावों/निर्देशों का पालन कराये जाने हेतु राज्यपाल महोदया को आश्वस्त किया। संचालन डीपीआरओ आनंद प्रकाश ने किया।
इस अवसर पर सदर विधायक सत्य प्रकाश मणि त्रिपाठी, सलेमपुर विधायक काली प्रसाद, एडीएम प्रशासन कुंवर पंकज, अपर पुलिस अधीक्षक रामयश सिंह, नगरपालिका अध्यक्ष अलका सिंह, सीएमओ डा0आलोक पाण्डेय, रेड क्रास से अखिलेन्द्र शाही, हिमान्शु सिंह सहित अन्य जुडे अधिकारी गण आदि उपस्थित रहे।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here