सीडीओ ने की बैंकर्स की बैठक


देवरिया टाइम्स। मुख्य विकास अधिकारी रवींद्र कुमार द्वारा बैकर्स की बैठक की गयी जिसमें लीड बैंक मैनेजर, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी उपायुक्त उद्योग केन्द्र, कार्यकारी अधिकारी मत्स्य, देवरिया एवं समस्त बैकर्स के मैनेजर उपस्थित थे।

उपायुक्त स्वतः रोजगार, मुख्य प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना में विभिन्न बैंकों में 212 पत्रावलियों प्रेषित की गयी है जिसमें बैंक द्वारा 106 पत्रावलियाँ स्वीकृत की गयी है, 33 पत्रावलियाँ बैंकों में लम्बित एवं 82 पत्रावलियाँ विभाग को वापस कर दिया गया है। मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना में विभिन्न बैंकों में 118 पत्रावलियाँ प्रेषित की गयी है, जिसमें से बैंक द्वारा 46 पत्रावलियाँ स्वीकृत की गयी है, 33 पत्रावलियों बैंकों में लम्बित एवं 46 पत्रावलियों विभाग को वापस कर दिया गया है।


ओ०डी०ओ०पी० में विभिन्न बैंकों में 113 पत्रावलियाँ प्रेषित की गयी है जिसमें से बैंक द्वारा 30 पत्रावलियों स्वीकृत की गयी है, 28 पत्रावलियों बैंकों में लम्बित एवं 61 पत्रावलियाँ विभाग को वापस कर दिया गया है। खराब प्रगति के कारण लीड बैंक मैनेजर को निर्देशित किया गया कि पी०एन०बी० एवं भारतीय स्टेट बैंक के उप महाप्रबंधक को उनके हस्ताक्षर से पत्र प्रेषित किया जाए कि जनपद देवरिया में रोजगार सृजन कार्यक्रम में इन बैंक शाखाओं द्वारा पूर्ण सहयोग नहीं किया जा रहा है जिनके विरूद्ध अपने स्तर से कार्यवाही करें। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना अन्तर्गत विभिन्न बैंकों में 95 पत्रावलियाँ प्रेषित की गयी है जिसमें से बैंक द्वारा 55 पत्रावलियों स्वीकृत की गयी है, 10 पत्रावलियाँ बैंकों में लम्बित एवं 30 पत्रावलियाँ विभाग को वापस कर दिया गया है।


मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग योजना अन्तर्गत विभिन्न बैंको में 30 पत्रावलियों प्रेषित की गयी है जिसमें से बैंक द्वारा 08 पत्रावलियाँ स्वीकृत की गयी है, 15 पत्रावलियाँ बैंकों में लम्बित एवं 07 पत्रावलियाँ विभाग को वापस कर दिया गया है। माटीकला योजना में विभिन्न बैंकों में 07 पत्रावलियाँ प्रेषित की गयी है जिसमें से बैंक द्वारा 02 पत्रावलियाँ स्वीकृत की गयी है, 04 पत्रावलियाँ बैंकों में लम्बित एवं 01 विभाग को वापस किया गया है। उपस्थित बैकर्स को निर्देशित किया गया कि स्वीकृत ऋण आवेदन पत्रों का शीघ्र वितरण की कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। Surbhi किसान क्रेडिट कार्ड हेतु वित्तीय वर्ष 2022-23 में कुल- 541 पत्रावलियों विभिन्न बैंकों में प्रेषित किया गया है जिसमें बड़ौदा यू०पी० ग्रामीण बैंक में 26, सेन्ट्रल बैंक में 35, स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया में 47 पंजाब नेशनल बैंक में 22, इण्डियन बैंक में 09, केनरा बैंक में-09, बैंक आफ बड़ौदा में 02, बैंक आफ इण्डिया में 06, ओ०वी०आई में 01 यूनियन बैंक आफ इण्डिया में 11. कुल 168 पत्रावलियाँ लम्बित हैं।


उपायुक्त, स्वतः रोजगार की समीक्षा में पाया गया कि महिला स्वयं सहायता समूहों को बैंकों से ऋण उपलब्ध कराये जाने के लिए वित्तीय वर्ष 2022-23 में कुल 1918 पत्रावलियाँ विभिन्न बैंकों में प्रेषित किया गया है। जिसमें से 209 स्वीकृत एवं 1619 पत्रावलियों विभिन्न बैंकों में लम्बित है। उपस्थित बैंक के अधिकारीगण को निर्देशित किया गया कि 13 अक्टूबर तक प्रत्येक दशा में बैंकों में लम्बित पत्रावलियों का निस्तारण करायें तथ्य जो पत्रावलियों स्वीकृत हो गयी हैं उनका वितरण 02 दिन के अन्दर करायें संबंधित अधिकारीगण को निर्देशित किया गया कि जिन बैंकों में पत्रावलियाँ लम्बित है उनसे व्यक्तिगत रूप से वार्ता कर उसका निस्तारण करायें तथा जिन बैंकों में ज्यादा पत्रावलियाँ है तो स्वयं जाकर बैंक अधिकारी से मिलकर 13 अक्टूबर तक निस्तारण कराते हुए वितरण करायें। लीड बैंक मैनेजर को निर्देशित किया गया कि बैंकर्स एवं संबंधित विभाग से समन्वय बनाते हुए लम्बित पत्रावलियों का निस्तारण करायें।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर