जेई/एईएस से निपटने के लिए ब्लॉक स्तर पर हो ‘कैपेसिटी बिल्डिंग



देवरिया टाइम्स।जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने जेई/एईएस, वेक्टर जनित संचारी रोगों के प्रभावी नियंत्रण हेतु माइक्रो प्लान के अनुसार सभी संबंधित विभागों को अंतर-विभागीय समन्वय स्थापित कर कार्य करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि ब्लॉक स्तर पर जेई/एईएस से जुड़ी आकस्मिक साथियों से निपटने तथा रोकथाम के लिए ‘कैपेसिटी बिल्डिंग’ का कार्यक्रम चलाया जाए। इस कार्य में किसी भी तरह की लापरवाही न बरती जाए।


      जिलाधिकारी आज सीएमओ कार्यालय स्थित धन्वंतरी सभागार में राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जेई/एईएस एवं वेक्टर जनित रोगों के प्रति जागरूकता एवं संवेदीकरण के लिए आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा की मौसम में बदलाव के साथ जून माह के उत्तरार्ध में  जेई/एईएस के मामले देखने को मिलते हैं। ऐसे में समय रहते लोगों को किसी भी आकस्मिक परिस्थिति से निपटने के लिए प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है। आगामी सप्ताह में ब्लाक स्तर पर सहायक अध्यापको, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, आशा और एएनएम को प्रशिक्षण दिया जाए। साथ ही तहसील दिवस पर जेई/एईएस से जुड़ा प्रस्तुतिकरण दिया जाए जिससे आमजन को भी जानकारी मिल सके।  उन्होंने कहा कि जेई/एईएस के लक्षण दिखने पर निकटवर्ती स्वास्थ्य केन्द्र पर संपर्क करें। आकस्मिक स्थिति होने पर लोग 108 एवं 102 नंबर डायल करके एम्बुलेंस की सहायता ले सकते हैं।


       जिलाधिकारी ने कहा कि इस रोग से बचाव हेतु जेई का टीका अवश्य लगवाएं। सूअर को आबादी से दूर रखें। जलजमाव न होने दें। घर के आसपास साफ-सफाई रखें। झाड़ी न होने दे। इंडिया मार्का 2 हैंडपंप का अथवा नल के स्वच्छ पानी का प्रयोग करें। गंबूजिया मछली के लिए तालाबों के चिन्हीकरण का कार्य कर लिया जाए तथा गांव में साफ-सफाई हेतु विशेष अभियान चलाया जाए। उन्होंने कहा कि पिछले 2 वर्ष में इस बीमारी से सर्वाधिक प्रभावित गांवों की सूची बना ली जाए, इससे कार्ययोजना बनाने में सुविधा होगी।
      जिलाधिकारी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, जिला पंचायती राज अधिकारी, समस्त निकायों के अधिशासी अधिकारियों, मत्स्य अधिकारी सहित सभी विभागों को इस बीमारी के नियंत्रण में उनके दायित्व से अवगत कराया और पूरी तत्परता के साथ अंतर विभागीय समन्वय स्थापित करने का निर्देश दिया। बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आलोक पांडेय, एसीएमओ डॉ सुरेंद्र सिंह, डॉ वीके श्रीवास्तव, डा बी बी सिंह, डा संजय चंद्र, डीपीओ कृष्णकांत राय सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

तंबाकू दिवस पर लिया शपथ
जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में विभिन्न अधिकारियों ने तंबाकू दिवस के अवसर पर इसके प्रयोग के निषेध करने की शपथ ली। डीएम ने कहा कि तंबाकू के प्रयोग से कैंसर सहित कई जानलेवा बीमारियां होती है। इसका प्रयोग किसी भी रूप में नहीं करना चाहिए।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर