आज से शुरू होगा 15 से 18 वर्ष के किशोरों का कोरोनारोधी टीकाकरण,स्कूल में लगेंगे विशेष कैम्प


देवरिया टाइम्स। जिला प्रशासन कोविड-19 की तीसरी संभावित लहर से मुकाबला करने के लिए पूरी तरह तैयार है। जनपद में पर्याप्त संख्या में प्रशिक्षित हेल्थकेयर वर्कर एवं संसाधन हैं। कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रोन को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। वैक्सीन नए वैरियंट पर पर्याप्त कारगर है।


उक्त बातें जिलाधिकारी अशुतोष निरंजन ने विकास भवन के गांधी सभागार में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहीं।जिलाधिकारी ने बताया कि 3 जनवरी से 15 से 18 आयु वर्ग की किशोरों का वैक्सीनेशन प्रारंभ हो जाएगा जनपद में अनुमानतः 217487 किशोर इस आयु वर्ग के हैं। इन्हें वैक्सीनेट करने की माइक्रो प्लानिंग तैयार कर ली गई है। डीआईओएस कार्यालय तथा स्वास्थ्य विभाग को समेकित प्रयास करके इन किशोरों को 15 दिन के अंदर वैक्सीनेट कराने का निर्देश दिया गया है। इन किशोरों को कोवैक्सीन लगाई जाएगी। 3 जनवरी को जनपद के कुल 73 डेडीकेटेड कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर पर इन्हें वैक्सीनेट किया जाएगा। जनपद में कई विशेष कैंप माध्यमिक विद्यालयों में भी आयोजित किए जा रहे हैं।


जिलाधिकारी ने बताया कि 60 वर्ष पूर्ण कर चुके सहरूग्णता ग्रस्त व्यक्तियों, फ्रंटलाइन वर्कर हेल्थ केयर वर्कर तथा निर्वाचन ड्यूटी पर तैनात किए जाने वाले कर्मचारियों को भी प्रिकॉशन डोज का लाभ दिया जाएगा। उन्हें 10 जनवरी से वैक्सीन लगाई जाएगी। इसके लिए वैक्सीन की दूसरी लगवाए हुए नौ माह अथवा 39 सप्ताह की अवधि पूर्ण होना आवश्यक होगा।
जिलाधिकारी ने बताया कि ओमिक्रोन वैरीएंट को लेकर पैनिक होने की आवश्यकता नहीं है। जिन देशों में पहले इस वैरीअंट का प्रसार हो चुका है, वहां प्रायः देखा गया है कि इससे ग्रसित व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती होने की नौबत कम आई है। हाल के शोधों से भी स्पष्ट है कि इस वेरिएंट पर वैक्सीन पर्याप्त प्रभावी है।
जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में कुल 1185 निगरानी समितियों को क्रियाशील कर दिया गया है। प्रत्येक निगरानी समिति के पास 50 दवाओं की एक किट होगी जिसे संदिग्ध व्यक्तियों में वितरित किया जाएगा।
जिलाधिकारी ने बताया कि शासन से प्राप्त निर्देशों के क्रम में 3 और 4 जनवरी को स्वास्थ्य विभाग द्वारा मॉकड्रिल का आयोजन किया जाएगा, जिसमें समस्त ऑक्सीजन प्लांट को पूरी तरह क्रियाशील करने के साथ ही अन्य व्यवस्थाओं को भी परखा जाएगा।
जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लगभग 18 लाख लोगों का कोविड-19 वैक्सीनेशन हो चुका है। अभी भी लगभग दो लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज नहीं लग पाई है। ऐसे सभी लोगों को प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीनेट किया जाएगा। जिलाधिकारी ने लोगों से वैक्सीन लगवाने की अपील की। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव का वैक्सीन और कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन है। संवाददाता सम्मेलन में मुख्य विकास अधिकारी रवींद्र कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर आलोक पांडेय, एसीएमओ डॉ सुरेंद्र सहित विभिन्न अधिकारी मौजूद थे।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर