नगर पालिका परिषद देवरिया के विकास कार्यों से 89.2% लोग असंतुष्ट

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

देवरिया टाइम्स के एक सर्वे में पाठकों ने नगर पालिका परिषद देवरिया के उदासीनता को लेकर अपनी नाराजगी व्यक्त की है। ट्वीटर पर इस सर्वे में 269 लोगों ने वोटिंग में भाग लिया। बरसात के मौसम में नगर पालिका परिषद देवरिया के विकास गाथा की पोल खुल गई है। उमा नगर, राम गुलाम टोला, रामनाथ आदि मोहल्लों में टूटी सड़क, नालियों से आमजन को काफ़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

कई पाठकों का कहना है कि शिकायत करने पर नगर पालिका का जवाब रहता है कि बजट के अभाव में कार्य कराना संभव नहीं है। एक पाठक ने यह भी कॉमेंट किया कि जब जनपद के विधायक, सासंद, नपा अध्यक्ष, सत्ताधारी पार्टी के है तो बजट किसने रोका है।

सड़कों के निर्माण के लिए नालियों के निर्माण के लिए साफ-सफाई के लिए डस्टबिन के लिए फंड नहीं होने से प्रश्न खड़ा होता है कि स्वच्छ भारत सेस, गृह कर, जल कर, पेट्रोल डीजल पर वैट, अन्य सामानों पर जीएसटी, लोगों द्वारा दिया गया आयकर का इस्तेमाल आखिर किस जगह हो रहा है जब उन्हें धरातल पर जनसुविधाओं से वंचित रहना पड़ रहा है।

बरसात ने प्रशासन की पोल खोल दी है कई जगह सड़कें धंस गई है कई जगह बाढ़ की हालात है गंदगी चारों तरफ है, जलजमाव के अलावा नाले भी बदबू कर रहे है साथ ही शहर में कूड़े के निस्तारण का कोई व्यवस्था नहीं है।

विज्ञापन

1 COMMENT

  1. सही बात है, देवरिया नगर पालिका की हालत बहुत ही दयनीय है।
    अब अफसोस होता है कि हमने यहां क्यों जमीन लेके अपना घर बनवाया।।।।
    हमारे मुहल्ले की बनी नई सड़क एक हफ्ते में ही टूटने लगी है।।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here