देवरिया की रहने वाली है सोशल मीडिया पर वायरल हो रही पीठासीन अधिकारी

विज्ञापन

यूपी की इस चुनाव अधिकारी के सामने फेल हैं बड़ी-बड़ी हीरोइनें, TikTok पर हैं . लेकिन एक बार फिर से सोशल मीडिया में वायरल हो रही हैं, उत्तर प्रदेश की वो पीठासीन अधिकारी, जो अपनी खूबसूरती को लेकर चर्चा बटोर रही हैं.
लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के बाद से सोशल मीडिया में एक पीली साड़ी पहनी पीठासीन अधिकारी की तस्वीरों को लगातार लोग शेयर कर रहे हैं. शेयर करते वक्त कोई उनकी खूबसूरती की तारीफ कर रहा है, तो कोई ऐसा करने वालों को लानत दे रहा है. लेकिन चर्चा सभी कर रहे हैं. लोगों ने उनका TikTok अकाउंट भी ढूंढ़ टिकटॉक से आए उनके कई वीडियो भी अब सोशल मीडिया के दूसरे प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रहे हैं. ज्यादातर वीडियो में वो डांस करती नजर आ रही हैं. लोगों का कहना है कि वे आम पीठासीन अधिकारी से अलग हैं. कई लोगों ने कमेंट कर के उनकी वेशभूषा के बारे में कई तरह की टिप्पणी की. लेकिन वो हैं कौन, रहती हैं कहां, यह बेहद कम लोगों को ही मालूम है.
पोलिंग बूथ से अपने वीडियो टिकटॉक पर डालने के बाद कई लोगों ने उनकी तलाश की. उन्होंने अपने कुछ वीडियो पोलिंग बूथ के अंदर कार्रवाई करते हुए अपने टिकटॉक पर डाल दिया है. इससे वे लोगों के निशाने पर आ गईं. पोलिंग बूथ से रिकॉर्ड किए गए अपने वीडियो में वे पोलिंग बूथ की फाइलों को हल्के अंदाज में हंसी मजाक करते हुए जांच रही हैं. इसकी लोगों ने जमकर आलोचना की. तब उन्होंने सामने आकर एक टीवी चैनल को इंटरव्यू दिया.
अपने इंटरव्यू में उन्होंने बताया, ‘मेरा नाम रीना द्व‌िवेदी, मैं देवरिया की रहने वाली हूं. अभी लखनऊ में रहती हूं. वहां मैं लोक कल्याण विभाग (PWD) कार्यालय में काम कर रही हूं.’ उन्होंने आगे यह भी बताया कि उनकी फोटो वायरल होनी कहां से शुरू हुई.
उन्होंने बताया, “हमारी ड्यूटी उस दिन मेरी ड्यूटी मतदान अधिकारी के रूप में नग्राम क्षेत्र, 173 मोहनलालगंज में लगी थी. उस समय मेरी ईवीएम के साथ कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं. उस दौरान मैं अपने मतदान केंद्र पर जा ही रही थी. तभी कुछ फोटोग्राफर्स ने मेरी फोटो खींच ली.” लेकिन चौंकाने वाली बात ये है कि वे जहां मतदान अधिकारी बनी थीं, वहां वोटिंग प्रतिशत पिछले चुनावों की तुलना में काफी बढ़ गया था. इसको लेकर उनसे सवाल पूछा गया.
फोटोग्राफर तुषार राय बताते हैं कि असल में यह पांच अप्रैल की बात है. उनका कहना है, “मैंने रीना को ईवीएम लेकर जाते हुए देखा तो मैं उनके पास गया. उनसे मैंने रिक्वेस्ट किया मुझे ईवीएम के साथ कुछ अच्छी तस्वीरों की जरूरत है. क्या मैं आपकी तस्वीर खींच सकता हूं. इस उन्होंने अपने पीडब्‍ल्यूडी में काम करने के बारे में बताया. मैंने उनको यह बताया कि तस्वीर का इस्तेमाल किसी गलत तरीके की सूचना के लिए नहीं की जाएगी. तब उन्होंने फोटो खींचने की अनुमति दे दी.”ki
इसके बाद फोटोग्राफर संतोष ने भी अपने मोबाइल फोन और कैमरे की तस्वीरों को दिखाते हुए पुख्ता किया कि रीना यूपी की हैं.
हालांकि जब रीना से पोलिंब बूथ के अंदर का वीडियो टिकटॉक पर डालने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह टिकटॉक चलाती हैं. लेकिन उन्होंने इस सवाल का सीधा जवाब नहीं दिया.

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here