लीबिया में आर्गन वेल्डर का काम करने वाले कुशीनगर और देवरिया के मजदूरों समेत सात भारतीयों का आतंकियों ने किया अपहरण

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

लीबिया में आर्गन वेल्डर का काम करने वाले कुशीनगर और देवरिया के मजदूरों समेत सात भारतीयों का आतंकियों ने अपरहण कर लिया है। आतंकियों ने अपहृत किए गए भारतीयों को छोड़ने के बदले में फिरौती की मांग की है। आतंकियों ने कंपनी मालिक से फिरौती में 20 हजार डॉलर की मांग की है। अपहृतों में देश के अन्य राज्यों के अलावा बिहार के भी मजदूर शामिल हैं। ये सभी लीबिया में मजदूरी करने गए थे और एक साल बाद अपने घर वापस लौट रहे थे। आतंकियों ने एयरपोर्ट के रास्ते में उनका अपहरण किया। बताया जा रहा है कि घटना 15 और 16 सितंबर के बीच की है। सभी 7 भारतीयों को 17 सितंबर को त्रिपोली हवाई अड्डे से रवाना होना था।

कंपनी नहीं दे रही कोई जवाब
अपहरणकर्ताओं के चंगुल में फंसे एक भारतीय कुशीनगर, यूपी निवासी मुन्ना चौहान के रिश्तेदार लल्लन चौहान ने बताया कि दिल्ली स्थित एक कंपनी एनडी एंटरप्राइजेस के मार्फत यह सभी लोग लीबिया गए थे। वहीं घटना के बाद कंपनी ने 27 सिंतबर को कहा कि आतंकियों की मांग पूरी की जा रही है और जल्द ही सभी लौटकर आ जाएंगे लेकिन अब कंपनी इस मामले में कुछ नहीं बोल रही है।

लल्लन ने बताया कि सात लोगों में तीन यूपी के कुशीनगर, देवरिया से तो एक बिहार के चंपारण से है और अन्य चार लोग आंध्रा प्रदेश से हैं। हाल ही में आंध्रा प्रदेश के एक सांसद ने संसद सत्र के दौरान इस मामले को उठाया भी था। इस संबंध में लल्लन ने दिल्ली के प्रसादपुर थाने में ऑनलाइन केस दर्ज कराकर विदेश मंत्रालय से अपने साढ़ू कुशीनगर निवासी मुन्ना चौहान समेत अन्य कामगारों की रिहाई के लिए सुरक्षित कदम उठाने की गुहार लगाई है। वहीं विदेश मंत्रालय और पीएमओ को इस मामले पर ट्वीट कर चुके हैं। लल्लन ने कहा कि जैसे-जैसे दिन गुजर रहे हैं कोई सुनवाई नहीं कर रहा हैं, सात लोगों की जिंदगी खतरे में है।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here