BSNL को ले डूबा उसका नेटवर्क, सरकार की 30000 करोड का पैकेज भी नेटवर्क सुधार के बिना होगा बेकार-

संवाददाता-अतुल पति त्रिपाठी, देवरिया टाइम्स, तरकुलवा देवरिया, तरकुलवा सहित सैकड़ो बीटीएस से बीएसएनएल का नेटवर्क आए दिन फेल रहने से बीएसएनएल उपभोक्ताओं को कम्युनिकेशन गैप की समस्या आए दिन रहती है, लगभग सभी उपभोक्ताओं का बीएसएनएल से मोहभंग हो गया है और वह अपना बीएसएनल का मूल नंबर किसी दूसरी कंपनी में पोर्ट करा लिए हैं कारण यह है कि नेटवर्क आए दिन फेल रहता है लोगों को बातचीत करने में समस्याएं आती हैं जिसका कोई स्थाई निदान अभी तक बीएसएनएल ने नहीं निकाला है सरकार ने बीएसएनएल के उद्धार के लिए 30000 करोड़ का पैकेज दिया है जो उचित है परंतु यह पैकेज भी बीएसएनल को तब तक सिर्फ पर नहीं पहुंचा सकता जब तक कि उसका नेटवर्क की समस्या का सुधार ना हो जाए, सरकार को चाहिए कि सबसे पहले वह बीएसएनएल के नेटवर्क सुधार के लिए कार्यवाही करें तभी जाकर इस पैकेज का लाभ बीएसएनल को मिल सकेगा आज भी तमाम उपभोक्ता बीएसएनएल के दीवाने हैं नेटवर्क सुधार होने के पश्चात वह अपने मूल कंपनी बीएसएनएल में लौट आएंगे साथ ही अन्य कंपनियों के नंबर भी बीएसएनएल में पोर्ट होने लगेंगे जिससे कि विभाग का राजस्व बढ़ जाएगा और बीएसएनएल अपने उत्कर्ष की ऊंचाइयों को छू सकेगा अतः सर्वप्रथम नेटवर्क सुधार की कार्रवाई करना आवश्यक है अन्यथा सरकार पैकेज पर पैकेज देती जाएगी और बीएसएनल अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में असफल रहेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here