भटनी :मारपीट के मामले में विवेचक सहित दो पुलिसकर्मी निलम्बित

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स

मारपीट में बुरी तरीके से घायल युवक की मौत के मामले में विवेचक को भी लापरवाही का दोषी मिलने पर निलंबित कर दिया गया है। पुलिस ने मामले में मुख्य आरोपी विकास के अलावा उसके साथी बिट्टू को भी गिरफ्तार कर लिया है। उधर देर शाम शव पहुंचने पर परिजनों ने डीएम को बुलाने की मांग को लेकर अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया। समाचार लिखे जाने तक अधिकारी ने उन्हें मनाने का प्रयास कर रहे थे।

भटनी क्षेत्र के रामपुर गांव के रहने वाले सिद्धान्त पुत्र सुरेन्द्र को हतवा गांव निवासी विकास यादव तथा उसके कुछ साथियों ने 13 अक्टूबर की सायं रेलवे स्टेशन के पास किसी विवाद को लेकर मारपीट कर घायल कर दिया। बुरी तरीके से घायल सिद्धान्त के परिवारीजनों ने उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया। मेडिकल कॉलेज में एक सप्ताह बाद इलाज के दौरान बुधवार की दोपहर उसकी मौत हो गई। मौत की खबर से नाराज ग्रामीणों ने भटनी बाईपास मार्ग को छह घन्टे तक जाम रखा।

देर शाम पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक शिष्यपाल और एडीएम राकेश कुमार ने ग्रामीणों को समझाकर मामला शान्त कराया था। करीब छह घण्टे बाद आवागमन सामान्य होने पर लोगों ने राहत को सांस ली। गुरुवार की सुबह करीब 10:30 बजे पुलिस अधीक्षक डॉ श्रीपति मिश्र रामपुर पहुंचे। उनके साथ एसडीएम ओमप्रकाश बर्नवाल तथा सीओ पंचम लाल सिंह भी थे। एसपी ने युवक की मां उषा देवी, चाची कालिन्दी, सोनी तथा चाचा से मिलकर ढ़ांढस बंधाया। पुलिस अधीक्षक ने परिवारीजनों की मांग पर मामले में लापरवाही बरतने वाले सभी के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया।

युवक के परिजनों ने इस दौरान उन्हें ज्ञापन सौंप दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के साथ ही घर के एक युवक को नौकरी दिलाने की मांग की। करीब एक घन्टे तक परिवारीजनों से मिलने के बाद उन्होंने घटना स्थल का भी जायजा लिया। एसपी ने बताया कि मामले में विवेचक दरोगा गुफरान खां को निलंबित कर दिया गया है। सीओ इसकी जांच कर रहे हैं। दोषी मिलने पर अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। मिली जानकारी के अनुसार युवक के परिजनों ने एक कॉन्स्टेबल पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं। माना जा रहा है कि उसके खिलाफ कार्रवाई तय है।

एक और आरोपी को पुलिस ने दबोचा

सिद्धान्त के साथ मारपीट के मामले में आरोपी विकास यादव को पुलिस ने बुधवार को ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए गिरफ्तार कर लिया था। विकास से हुई पूछताछ में घटना में शामिल दूसरे आरोपी हतवा गांव निवासी बिट्टू को भी उसके बुआ के घर से पुलिस ने रात को दबिश देकर हिरासत में ले लिया। पुलिस दोनों से पूछताछ कर घटना में शामिल अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार करने का प्रयास कर रही है।

जांच में गुरुवार को भी पुलिस ने बढ़ाई धाराएं

मारपीट के बाद पुलिस ने मामले में पीड़ित युवक के पिता सुरेन्द्र की तहरीर पर एनसीआर दर्ज किया था। जिसमें 17 अक्टूबर को 308 जांच के बाद बढ़ाया गया था। विवेचक गुफरान खां ने 20 को मामले में दलित उत्पीड़न का भी केस दर्ज किया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर पुलिस गुरुवार की रात 308 धारा को परिवर्तित करते हुए गैर इरादतन हत्या की धारा 304 दर्ज कर लिया है।

दरोगा के वायरल आडियो को भी घटना से जोड़ा

पिछले दिनों एक लेन-देन की बात करते एक दरोगा का ऑडियो वायरल हो गया था। अब युवक की मौत के बाद उस वायरल ऑडियो को भी इसी घटना से जोड़  जा रहा है। वायरल हुए आडियो की जांच सीओ भाटपाररानी कर रहे थे।  

शव का अंतिम संस्कार करने से किया इनकार

पोस्टमार्टम के बाद सिद्धान्त का शव गुरुवार की सायं उसके घर पहुंचा तो कोहराम मच गया। शव के गांव पहुंचते ही पूरा गांव युवक के दरवाजे की ओर उमड़ पड़ा। शव को देखते ही मां उषा, पिता सुरेन्द्र तथा भाई आदर्श दहाड़े मारकर रोने लगे। मां के  शव को सीने से लगाकर अपने बेटे को लौटाने की गुहार मौके पर मौजूद लोगों से कर रही थी। मां के दहाड़े मारकर रोता देख मौके पर मौजूद सबकी आंखें नम हो गयीं। परिवार के अलावा सिद्धान्त के साथियों का भी रो रो कर बुरा हाल था। परिजनों ने डीएम को बुलाने की मांग करते हुए शव का अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया। समाचार लिखे जाने तक मौके पर मौजूद एसडीएम ओमप्रकाश व सीओ श्रीएस त्रिपाठी उन्हें समझाने का प्रयास कर रहे थे। माहौल को देखते हुए मौके पर भटनी, बनकटा, भाटपाररानी, खामपार व खुखुन्दू थाने की पुलिस तथा आरआरएफ की टीम तैनात रही।  

लापरवाही बरतने के आरोप में मामले की विवेचना कर रहे दरोगा को निलंबित कर दिया गया है। परिवारीजनों की मांग पर मामले को जांच की जा रही है। जांच में दोषी पाए जाने पर अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। घटना के लिए जिम्मेदार आरोपियों के खिलाफ भी सख्त-सख्त से कार्रवाई की जाएगी। उनके खिलाफ गैंगेस्टर भी लगाया जाएगा।- डॉ श्रीपति मिश्र, पुलिस अधीक्षक, देवरिया।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here