भटनी:गेहूं खरीद में धांधली का आरोप लगाकर किसानों ने किया हंगामा


देवरिया टाइम्स/भटनी
गेहूं खरीद में कालाबाजारी का आरोप लगा किसानों ने विपणन गोदाम पर सस्ते गल्ले का उठान रोक दिया और हंगामा करने लगे। इसकी जानकारी मिलने और गेहूं क्रय केंद्र से बार-बार शिकायतें मिलने पर एआरएम जितेंद्र कुमार शनिवार को विपणन कार्यालय पहुंचे। उन्होंने किसानों की पीड़ा सुनी और विपणन अधिकारी को फटकार लगाई। नाराज किसानों से बात कर खोरीबारी में गोदाम की व्यवस्था कराई और गेहूं खरीद का आदेश दिया। गेहूं खरीद नहीं होने और विपणन अधिकारी के गायब रहने पर अमर उजाला ने शुक्रवार को प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी।


भटनी में विपणन गोदाम को गेहूं क्रय केंद्र बनाया गया है। सरकार की ओर से 1 अप्रैल से ही गेहूं खरीद शुरू करने का आदेश दिया गया था, लेकिन विपणन अधिकारी की लापरवाही के चलते करीब दो महीने बाद भी भटनी में अधिकतर किसानों की गेहूं खरीद नहीं हुई है। आए दिन किसान केंद्र पर आते थे और केंद्र बंद होने और विपणन अधिकारी के नहीं मिलने से निराश होकर लौट जाते थे। इसके बाद विपणन अधिकारी शनिवार को केंद्र पर पहुंचे और सस्ते गल्ले का उठान करने लगे। इसकी सूचना पर किसान केंद्र पहुंचे और गेहूं खरीद के लिए दबाव बनाने लगे। उन्होंने गोदाम में जगह नहीं होने की बात बताई। इससे नाराज किसानों ने गोदाम के आगे ट्राली लगाकर सस्ते अनाज का उठान रोक दिया और हंगामा करने लगे।

इसकी जानकारी होने पर एआरएम जितेंद्र कुमार क्रय केंद्र पहुंचे और समस्याओं से रूबरू हुए। नाराज किसानों से बात कर खोरीबारी में गोदाम की व्यवस्था कराई और जल्द गेहूं खरीद करने का आदेश दिया। इस संबंध में एआरएम ने बताया कि किसानों की समस्या दूर करने के लिए खोरीबारी में नए गोदाम की व्यवस्था की गई है। खोरीबारी क्षेत्र के किसानों का गेहूं उसी गोदाम पर लेने को कहा गया है।

72 घंटे के अंदर हो भुगतान

जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन के निर्देशानुसार अपर जिलाधिकारी (वि०/रा०) उमेश कुमार मंगला ने गेहूँ क्रय की प्रगति समीक्षा अपने कलक्ट्रेट कार्यकक्ष में की। उन्होने कम प्रगति वाले क्रय एजेन्सियों को फटकार लगाते हुए निर्देश दिया है कि वे कृषको से गेहूॅ खरीदने में किसी प्रकार की बहानेबाजी का रवैया नही अपनायेगें तथा क्रय का भुगतान कृषकों के खाते में 72 घंटे के अन्दर उसे हर हाल में सुनिश्चित करायेगें। इससे अधिक समय किसी भी दशा में न लगे, इसके लिये उन्होने सचेत किया।
एडीएम वित्त ने क्रय एजेन्सियों को निर्देश देते हुए कहा कि किसानों का भुगतान लम्बित न रहे, इसे सभी को सुनिश्चित करना होगा। बोरे आदि की अनुपलब्धता की बहानेबाजी नहीं अपनायेंगे। बोरा आदि पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। जनपद में बोरे की कहीं कमी नही है। सभी क्रय एजेन्सिया क्रय केन्द्रों पर बोरे की उपलब्धता सुनिश्चित रखेगें।
श्री मंगला ने समीक्षा के दौरान पाया कि अब तक कुल 53189.790 मी0टन गेहूॅ मूल्य धनराशि 105.05 करोड की क्रय की जा चुकी है, जिसके सापेक्ष 71.33 करोड की धनराशि का भुगतान कृषकों के बैंक खातो में किया जा चुका है। शेष धनराशि 33.39 करोड का भुगतान शीघ्र किये जाने का निर्देश दिया गया है।

spot_img

Similar Articles

Advertismentspot_img

ताजा खबर