देवरिया : बेटियों ने दिया पिता की अर्थी को कंधा, लोगो ने कहा बेटिया बेटो से कम नही

विज्ञापन

देवरिया टाइम्स


देवरिया जिले के बनकटा क्षेत्र में पुरानी परम्पराओ को दरकिनार करते हुए साहसी बेटियों ने अपने पिता की मौत के बाद उनके अर्थी को कंधा दिया। समाज के लोग इस साहसिक कदम के लिए बेटियों की काफी प्रसंसा की।


यह वाकया बनकटा थाना क्षेत्र के जिरवनिया गांव का है। गांव के निवासी हरेंद्र शर्मा की कुल छह बेटियां है। जिनमे से तीन बेटियों (सुमन, पूनम और शिला) की शादी हो चुकी है।जबकि निक्की,पूजा और मनीषा की शादी नही हुई है। हरेंद्र ने अपनी बेटियों को लड़को की तरह पाल पोश के बड़ा किया और शिक्षा दिलाई।


हरेंद्र शुगर और लीवर की बीमारी से ग्रसित थे और उनका इलाज बेटी और दामाद दिल्ली से करा रहे थे। इस दौरान शनिवार को उनकी मौत हो गयी। पुत्र नही हिने के कारण मृतक को कंधा कौन देगा इस बात को लेकर गांव के लोगो मे कानाफूसी होने लगी। इस बात की जानकारी जब मृतक की बेटियों को हुई तो उन्होंने साहसिक कदम उठाते हुए कहा कि पिता जी ने हम सब को लाड़-प्यार से पाला पोसा और पढ़ाने लिखाने में कोई भेदभाव नही किया। हम सभी को पुत्र की तरह स्नेह दिया इसलिए हम भी पिता की अर्थी को कंधा देकर पुत्र का फर्ज निभाएंगे।


यह सुनते सभी उपस्थित लोग अवाक हो गए लेकिन जब इस बात की जानकारी गांव के प्रबुद्ध लोगो को हुई तो उन्होंने इस कदम की काफी प्रसंशा की। इसके बाद रोते -बिलखते बेटीयों ने पिता की अर्थी को कंधा दिया और मुखाग्नि बड़ी लड़की के पुत्र आयुष शर्मा ने दिया।और स्याही नदी के किनारे पर अंतिम संस्कार किया गया।

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here