भारत की विकास दर, जीडीपी दर पिछले तिमाही में 23.9% गिर गयी, आप भी जानिए, जीडीपी क्या होता है?

0
124
विज्ञापन

संवाददाता पं. अतुल पति त्रिपाठी, देवरिया टाइम्स,

जीडीपी किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का सबसे जरूरी पैमाना होता है। भारत में जीडीपी (GDP) की गणना हर तीसरे महीने यानी तिमाही आधार पर होती है। गत तिमाही जारी आंकड़ों के अनुसार अप्रैल से जून के दौरान चालू वित्त वर्ष की तिमाही में देश का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) वृद्धि दर शून्य से 23.9 प्रतिशत नीचे लुढ़क गया है, जिसका सीधा असर देश के आम आदमी पर पड़ने वाला है। 
सरल शब्दो में कहे तो जैसे किसी विद्यार्थी की मार्कशीट देखकर हम उसके पढाई का अन्दाजा लगा लेते है यह तेज है या कमजोर ये किस विषय में कमजोर है और किस विषय में ठीक है इस बालक की अगली पढाई कैसे रहने वाली है? आादि ठीक उसी प्रकार जीडीपी किसी देश व सरकार की आर्थिक स्थिति बताती है जिससे सरकार की काबिलियत का पता चलता है,

जीडीपी की गिरावट की वजह कोरोना महामारी के बाद लगाया गया लॉकडाउन है। GDP के लिए मुख्य तौर पर 8 औद्योगिक क्षेत्रों कृषि, खनन, मैन्युफैक्चरिंग, बिजली, कंस्ट्रक्शन, व्यापार, रक्षा और अन्य सेवाएं के आंकड़े जुटाए जाते हैं। जुलाई माह में 8 क्षेत्रों में 9.6 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। GDP के गिरने का आम आदमी पर क्या प्रभाव होगा, आइये जानते हैं इसकी 5 बातें…  

  1. सकल घरेलू उत्पाद गिरने से प्रति व्यक्ति की औसत आमदनी कम हो जाएगी। अप्रैल से जून के बीच पूरी तरह से देश में लॉकडाउन था। आने वाले समय में गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले लोगों की संख्या बढ़ सकती है। जीडीपी में गिरावट से रोजगार दर में भी कमी आएगी। 
  2. लॉकडाउन की वजह से मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर के हालात काफी बदतर हो चुके हैं। आने वाले समय में इस क्षेत्र में परेशानियां और बढ़ सकती हैं। मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में 39.3 प्रतिशत की गिरावट दिखी है तो कंस्ट्रक्शन सेक्टर की ग्रोथ रेट में 50.2 प्रतिशत की गिरावट आई है। 
  3. रोजगार के क्षेत्र में भी इसका असर देखने को मिल सकता है। ऑटो मोबाइल सेक्टर में तो इसका असर साफ दिखाई दे रहा है। इस क्षेत्र में लाखों लोगों की नौकरियां दांव पर लग गई हैं। अगर अर्थव्यवस्था मंदी में जा रही हो तो बेरोज़गारी का खतरा बढ़ जाता है। नई नौकरियां मिलनी भी कम हो जाती हैं और लोगों को निकाले जाने का सिलसिला भी तेज होता है.
  4. लॉकडाउन की वजह से व्यापार, होटल, परिवहन लंबे समय तक बंद रहे हैं। इन तीनों क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों पर जीडीपी गिरने का असर हो सकता है।
  5. नौकरियों में कटौती, बढ़ती महंगाई और देश की आर्थिक वृद्धि दर में कमी इन तीनों मोर्चों पर निराशा मिलने से लोगों की आर्थिक स्थिति पर इसका सीधा असर देखने को मिलेगा।

इसप्रकार जीडीपी के गिरने का मतलब है देश का आर्थिक रूप से कमजोर होना, मोदी सरकार सभी मध्यम वर्ग व उच्च वर्ग से टैक्स वसूलकर देश के भिखमंगो को बाट रही है जिसके कारण वे मुफ्त की खाने के आदि हो गये है जो किसी प्रकार से देश की उत्पादन में सहयोग नही करते, बस मुफ्तखोरी में पड़े रहते है, देश की जीडीपी गिरने का मुख्य कारण ये मुफ्तखोरी ही है, और जबतक सरकार ये जारी रखेगी, जीडीपी और गिरेगी पिछली तिमाही में ये शुन्य से नीचे मतलब माइनस 23.9 पर चली गयी थी, जो अबतक की सबसे खराब स्थिति है, यदि मुफ्तखोरो की मुफ्तखोरी बन्द करके उन्हें देश के लिए उत्पादक कार्य मे नही लगाया गया तो, इस देश की जीडीपी मतलब आर्थिक स्थिति और ज्यादे खराब होने के आसार है, आखिर सरकार ये कब समझेगी? या समझना ही नही चाहती?

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here