अपना आई.टी.आर. सही तरीके से दाखिल करें, इन 20 गलतियों के कारणों से मिल सकती है विभाग की नोटिस-

0
145
विज्ञापन

संवाददाता- पं. अतुल पति त्रिपाठी, देवरिया टाइम्स,

ITR: इनकम टैक्स रिटर्न भरने पर भी किसी करदाता/ टैक्सपेयर को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की तरफ से इनकम टैक्स नोटिस मिल सकता है. हालांकि इनकम टैक्स नोटिस मिलने का मतलब सिर्फ यह नहीं कि आपने कोई टैक्स चोरी की है. कभी-कभी आईटीआर में दी गई जानकारियो के मैच न होने पर भी रिटर्न फाइल करने के बावजूद भी आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट नोटिस भेज सकता है. बता दें कि इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख 30/09/2020 हैं. कई ऐसे कारण हैं जिनकी वजह से समय से आईटीआर फाइल करने के बावजूद असेस्सी को नोटिस मिल सकता है.

आइए आपको बताते है कि, इन 20 वजहों से मिल सकता है आयकर विभाग की नोटिस-फॉर्म 26AS में मिले हुए टीडीएस को अपने द्वारा क्लेम किए गए टीडीएस से जांच ले.अगर इसमें कोई फर्क आता है तो आपको निश्चित रूप से नोटिस आ सकता है.

अगर फॉर्म 26AS में कोई इनकम आई है और वो इनकम आपकी दिखाई गई इनकम से मैच नहीं हो रही है और या आपकी दिखाई गई इनकम का टोटल 26AS की टोटल से कम है तो आप को नोटिस आ सकता है.

अगर आपने इनकम गलत हैंड में दिखाई है तब भी आपको नोटिस आ सकता है जैसे प्रोफेशनल इनकम को आप कमीशन या कॉन्ट्रैक्ट दिखाएंगे तो आपको नोटिस आ सकता है. इसी तरह कमीशन की इनकम को अगर आप प्रोफेशनल में दिखाएंगे तब भी नोटिस आने की संभावना है.

डाटा प्रोसेसिंग की इनकम को अब कॉन्ट्रैक्ट इनकम में दिखाने पर नोटिस आएगा. इसलिए डाटा प्रोसेसिंग की इनकम को प्रोफेशनल के अंतर्गत ही दिखाना सही रहेगा.

आपके द्वारा क्लेम किया गया टीडीएस अगर 26AS में नहीं आया है, या आपके एंपलॉयर या सर्विस रिसीवर ने अगर अपनी टीडीएस रिटर्न को रिवाइज करके आपका टीडीएस क्रेडिट हटा दिया तो ऐसे में आपको नोटिस अवश्य आएगा.

अगर आपने ITR में गलत बैंक अकाउंट नंबर या आईएफएससी कोड भरा है और आपका रिफंड बनता है तो ऐसे में आपको नोटिस आ सकता है.

अगर आप प्रोफेशनल काम करते हैं और आपकी टर्नओवर 50 लाख से ज्यादा है या अगर आप व्यापारी हैं और आपका टर्नओवर 2 करोड़ से ज्यादा है लेकिन इसके बावजूद आप टैक्स ऑडिट न करवाकर सेक्शन 44 में रिटर्न भर देते हैं तो आपको नोटिस आ सकता है.

अगर आपने अपने बिजनेस या प्रोफेशन के नेचर को सही से नहीं दिखाया है तो ऐसे में आपको नोटिस आ सकता है.

अगर आपकी ग्रॉस सेल्स जीएसटी में दिखाई गई सेल से अलग है और यह डिफरेंस अगर अधिक बड़ा है तो आप को नोटिस आ सकता है. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट अब इनकम टैक्स और जीएसटी डाटा को आपस में शेयर कर रहा है. किसी भी तरह का अंतर आने से आप मुश्किल में पड़ सकते हैं.

अब अन्य सोर्सेज से कमाई गई इनकम की सभी डिटेल इनकम टैक्स रिटर्न में देना जरूरी है. ऐसे में अगर कहीं और से कमाई गई आय को आप गलत कैटगरी में भरते हैं तो आप को नोटिस मिलने की संभावना है.

अगर आपने अपनी रिटर्न में पूरे व्यापार की ग्रॉस सेल्स न दिखाकर केवल प्रॉफिट ही दिखाया हो तो ऐसे में भी नोटिस आ सकता है.

अगर आपने कोई प्रॉपर्टी खरीदी है और उसकी कीमत 50 लाख से अधिक है और आपने 1% टीडीएस नहीं काटा है तो आप को नोटिस आ सकता है.

अगर आपकी रिटर्न में दिखाई गई सैलरी और फॉर्म 16 की सैलरी मैच नहीं करती और आपके ITR में भरी सैलरी फॉर्म 16 की सैलरी से कम है तो आप को आप को नोटिस आ सकता है.

अगर आप सैलरी से इनकम कमाते हैं और आप हर महीने 50 हजार रुपये से ज्यादा किराया देते हैं लेकिन आपने अपने मकान मालिक को रेंट पे करते समय टीडीएस नहीं काटा है तो आप को नोटिस आ सकता है.
16.अगर आपने सेक्शन 80 के तहत कोई नकली छूट इनकम टैक्स रिटर्न में क्लेम की है तो आपको नोटिस आ सकता है.

अगर आपने लॉटरी आदि पर कोई पैसा कमाया है तो सही तरीके से इनकम टैक्स रिटर्न में नहीं दिखाया है तो आपको नोटिस आ सकता है

अगर आपने कोई प्रॉपर्टी बेची है और उसका कैपिटल गेन नहीं दिखाया है तो आप को नोटिस आ सकता है.अगर रिटर्न को आधार से लिंक नहीं किया तो रिटर्न जाएगा ही नहीं और आप को नोटिस आ सकता है कि आपने रिटर्न जमा नहीं किया है.
20. अगर इस साल से पहले के 6 वर्षों में से इनकम टैक्स विभाग ने आपकी कोई अघोषित आय पकड़ ली है या आपने बीते वर्षों में से किसी वर्ष रिटर्न फाइल नहीं किया है तो सेक्शन 138 के तहत इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपको नोटिस भेज सकता है. आदि अत: सावधानी पूर्वक आई.टी.आर. फाइल करें…

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here