देवरिया टाइम्स । देवभूमि की आवाज़
Image default
  • Home
  • देवरिया
  • राम मंदिर आंदोलन के लिए देवरिया के परदेसी ने छोड़ दी थी पीएसी की नौकरी,लगी थी राष्ट्र द्रोह की धारा
देवरिया

राम मंदिर आंदोलन के लिए देवरिया के परदेसी ने छोड़ दी थी पीएसी की नौकरी,लगी थी राष्ट्र द्रोह की धारा

देवरिया टाइम्स

राममंदिर बनने का रास्ता अब साफ़ हो चुका है,पर अब समाज से ऐसे लोगो की कहानियां भी सामने आ रही है ,जिन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिए बहुत योगदान दिया,इन्ही में से एक देवरिया जनपद के पिपरा खेमकरन के रहने वाले परदेसी राम ,जिन्होंने पीएसी की नौकरी छोड़कर राम मंदिर आंदोलन में भाग लिया और बाद में बर्खास्त भी हुए लेकिन इस्तीफ़ा देकर पुनः आंदोलन में जुड़ गए।




पंजाब केसरी की खबर के मुताबिक पीएसी में सिपाही की नौकरी करने वाले परदेसी राम की 1988 में प्रयागराज में संत सम्मेलन के दौरान तैनाती थी। रामजन्मभूमि के शिलान्यास की तारीख 9 नवंबर, 1988 को तय हुई, जिसमें हिस्सा लेने के लिए वह बिना छुट्टी लिए वर्दी पहने हुए अयोध्या पहुंच गए।




30 अक्टूबर, 1990 के मंदिर निर्माण आंदोलन में परदेसी राम गिरफ्तार भी हुए। वर्दी पहनकर आंदोलन में शामिल होने पर उनके खिलाफ पीएसी कमांडर ने राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज करा दिया। उसके बाद परदेसी ने घर छोड़ दिया और आंदोलन में हिस्सा लेने लगे।




6 दिसंबर, 1992 के आंदोलन में उन्होंने बतौर कारसेवक हिस्सा लिया। 1993 में उन पर दर्ज राष्ट्रद्रोह के मुकदमे को साक्ष्य के अभाव में खारिज कर दिया गया। उसके बाद परदेसी ने नौकरी से त्यागपत्र देकर खुद को पूरी तौर पर मंदिर आंदोलन के लिए समर्पित कर दिया। वहीं राम मंदिर पर फैसला आने के बाद परदेसी ने कहा कि आखिरकार उनका मिशन पूरा हो गया है।




देवरिया टाइम्स की खबरों का अपडेट मोबाइल पर पाने के लिए,अपने व्हाट्सएप्प से DT लिखकर 7007812095 पर भेजें,इसके अलावा आप हमारे फेसबुक पेज देवरिया टाइम्स को लाइक करके भी हमारे साथ जुड़ सकतें है,और अपडेट पा सकतें हैं.

Related posts

तरकुलवा बाजार में मुख्य सड़क की दोनों पटरी से प्रशासन ने अतिक्रमण हटवाया और पटरियो की मिट्टी हटवाई, लोगों ने सराहा-

अपर पुलिस अधीक्षक की गाड़ी टेम्पो से टकराई,टेम्पो चालक घायल

देवरिया टाइम्स

एक अच्छी सोच के साथ गुरुजनों ने अभिभावकों को सौंपा पौधा

देवरिया टाइम्स

Leave a Comment